Best Dr.Rahat indori Shayari & Poetry – राहत इंदौरी शायरी.

Read the best collection of shayari is Rahat Indori Shayari and poetry available in Hindi, Top Hindi Shayari of Famous Shayar Rahat Indori Sahab was a great poet and writer..


कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं
ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं।


Kabhi mahak ki tarah ham gulon se udate hain kabhi dhuen kee tarah parvaton se udate hain ye kechiyan hamen udane se khaak rokengi ki ham paron se nahin hausalon se udate hain.


Roj taronko
Dr. Rahat indori shayari

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं
चाँद पागल हैं अन्धेरें में निकल पड़ता हैं
उसकी याद आई हैं सांसों, जरा धीरे चलो
धडकनों से भी इबादत में खलल पड़ता हैं!


Roz taaron ko numaish mein khalal padata hain chand paagal hain andheren mein nikal padata hain usakee yaad aayi hain saanson, jara dheere chalo dhadakanon se bhi ibadat mein khalal padata hain..


बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा
चोर उचक्कों की करो कद्र, की मालूम नहीं
कौन, कब, कौन सी सरकार में आ जाएगा.!


Ban ke ik hadasa bazaar mein aa jaega jo nahin hoga vo akhabar mein aa jaega chor uchakkon kee karo kadr, kee maaloom nahin kaun, kab, kaun see sarakar mein aa jaega.


तेरे बदन की लिखावट मई है, उतार चढ़ाव, मै तुझे कैसे पढूंगा मुझे, किताब तो दे..!


Tere badan ki likhawat mai hai utaar chadaav, Mai tujhe kaise padhunga mujhe kitaab to de..


एक एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा है, आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा है,
मैंने शाहो की मोहब्बत का भरम तोड़ दिए,मेरे कमरे मे भी एक ताजमहल रखा है..!!


Ek ek harf ka andaaz badal rakha hai, Aaj se humne tera naam ghazal rakha hai,
Maine shaho ki mohabbat ka bharam tod dia, Mere kamre mai bhi ek tajmahal rakha hai..


सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे चले चलो की जहाँ तक ये आसमान रहे,
ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे.!


Safar ki had hai vahaan tak kee kuchh nishaan rahe chale chalo kee jahaan tak ye aasaman rahe ye kya uthaye kadam aur aa gayee manjil maza to tab hai ke pairon mein kuchh thakan rahe.


अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया
कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया|


Aphavah thi ki meri tabiyat kharab hain logo ne poochh poochh ke beemaar kar diya kashthi tera naseeb chamakadar kar diya is paar ke thapedon ne us paar kar diya.


Suraj sitare
Chand,Sitare Rahat indori shayari

सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहे, जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे,
शाखों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हैं हम,आंधी से कोई कह दे की औकात में रहे..!!


Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe, Jab tak tumhare haath mere haath me rahe,
Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum, Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe..


कौन, कब, कौन सी सरकार में आ जायेगा
हम अब मकान मे ताला लगाने वाले हैं,
पता चला है कि मेहमान आने वाले हैं.!


Kaun, kab, kon si sarkaar me aa jayega,,
Hum ab makaan mai tala lagaane wale hain,
Pata chala hai ki mehmaan aane wale hain..


अगर अनारकली है सबब बगावत का, सलीम हम तेरी शेरतें क़ुबूल करते हैं..!


Agar anarkali hai sabab bagawat ka, Saleem hum teri shaertein kubool karte hain..


जुबां तो खोल, नज़र तो मिला, जवाब तो दे, मैं कितनी बार लुटा हूँ मुझे हिसाब तो दे..!!


Zubaan to khol, nazar to mila, jawaab to de, Mai kitni baar luta hoon mujhe hisaab to de.


जवानियों मई जवानी को धुल करते हैं, जो लोग भूल नहीं करते भूल करते हैं !


Jawaniyo mai jawani ko dhool karte hain, Jo log bhool nahi karte bhool karte hain.


Teri har baath
Rahat indori shayari for love

तेरी हर बात मोहब्बत मे गवरा करके, दिल के बाजार मे बैठे है ख़सारा करके,
मुन्तज़िर हूँ के सितारों की ज़रा आँख लगे,चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके..!!


Teri har baat mohabbat mai gawara karke, Dil ke bazaar mai baithe hai khasaara karke,
Muntazir hoon ke sitaaro ki zara aankh lage, Chaand ko chat pe bula lunga ishara karke..


ये सहारा जो नहीं हो तो परेशां हो जाएं
मुश्किलें जान ही ले लें अगर आसां हो जाएं
ये जो कुछ लोग फरिश्तों से बने फिरते हैं
मेरे हत्थे कभी चढ़ जाएं तो इन्सां हो जाएं |


Ye sahara jo nahin ho to pareshan ho jaen mushkilen jaan hi le len agar aasan ho jaen ye jo kuchh log pharishton se bane phirate hain mere hatthe kabhi chadh jaen to insan ho jaen.


Rahat indori Shayari love 2 Line


जनाज़े ही जनाज़े हैं सड़क पर,
अभी माहौल मर जाने का नईं !


Kanaaze hi janaze hain sadak par abhi mahaul mar jaane ka naeen..


“शाखों से टूट जाएं, वो पत्ते नहीं हैं हम
आंधी से कोई कह दे कि औकात में रहे”!


Shaakhon se toot jaen, vo patte nahin hain ham aandhi se koi kah de ki aukaat mein rahe.


maine apni khusk
Apni khushk Rahat indori shayari

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।


Mainne apani khushk aankhon se lahoo chhalaka diya, ik samandar kah raha tha mujhako paani chaahie.


बहुत ग़ुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ..!


Bahut guroor hai dariya ko apane hone par jo meri pyas se ulajhe to dhajjiyan ud jaen.


नए किरदार आते जा रहे हैं!
मगर नाटक पुराना चल रहा है!!


Nae kiradar aate ja rahe hain magar naatak purana chal raha hai..


“एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों
दोस्ताना ज़िंदगी से, मौत से यारी रखो”!


Ek hee nadi ke hain ye do kinare doston dostana zindagi se, maut se yaari rakho..


“प्यास तो अपनी सात समंदर जैसी थी
नाहक हमने बारिश का एहसान लिया”!!


Pyaas to apani saat samandar jaisi thi naahak hamane baarish ka ehasan liya..


राह में ख़तरे भी हैं लेकिन ठहरता कौन है
मौत कल आती है आज आ जाए डरता कौन है !


Raah mein khatare bhi hain lekin, thaharata kaun hai maut kal aathi hai aaj aa jae darata kaun hai..


सब ही अपनी तेजगामी के नशे में चूर हैं,
लाख़ आवाज़ें लगा लीजे ठहरता कौन है.!


Sab hi apani tejagami ke nashe mein choor hain laakh aavazen laga leeje thaharata kaun hai.


हैं परिंदों के लिए शादाब पेड़ों के हुजूम
अब मेरी टूटी हुई छत पर उतरता कौन है..!


Hain parindon ke lie shadab pedon ke hujoom ab meri tooti hui chhat par utarata kaun hai.


Tere laskar ke
Laskar, Rahat indori shayari

तेरे लश्कर के मुक़ाबिल मैं अकेला हूँ मगर
फ़ैसला मैदान में होगा कि मरता कौन है !


Tere lashkar ke muqaabil main akela hoon magar faisala, maidan mein hoga ki marata kaun hai..


सितारे नोच कर ले जाऊंगा
मैं ख़ाली हाथ घर जाने का नईं.


Sitaare noch kar le jaoonga main khali haath ghar jane ka naeen.


मिरे बेटे किसी से इश्क़ कर,
मगर हद से गुज़र जाने का नईं !


Mire bete kisi se ishq kar magar had se guzar jaane ka naeen..


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *