Best Gulzar Shayari in Hindi and English

Best of Gulzar Shayari in hindi and english.Gulzar is one of the popular indian’s poets, status, quotes in 2020.

Chaandi ugne lagi hai baalo mein..Ke umr tum par haseen lagti hai

चांदी उगने लगी है बालों में , के उम्र तुम पर हसीन लगती है !

Wo cheez jise- Dil kehte hain,
Hum bhool gaye hain rakh ke kahin

वो चीज़ जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख के कहीं।


Zaayka alag sa hai mere lafzo ka.
Ke Koi samajh nahi paata, Koi bhula nahi paata.

ज़ायका अलग सा है मेरे लफ़्ज़ों का,
के कोई समझ नहीं पाता, कोई भूला नहीं पाता।


Zindagi sasti hai sahab, Jeene ke tarike mahange hain
ज़िन्दगी सस्ती है साहब, जीने के तरीके महंगे हैं।


Kab aa rahe ho mulaakaat ke liye, Maine chaand roka hai ek raat ke liye.
कब आरहे हो मुलाकात के लिए, मैंने चाँद रोका है एक रात के लिए


Shart lagi hai mar jaane ki Jeena hai toh pyaar mein Deh kahin bhi ho mera Jaan rakhi hai yaar mein
शर्त लगी है मर जाने की नीना है तो प्यार में देह कहीं भी हो मेरा, जान राखी है यार में।


meree subah kee tahal mein, ek alag sa sukoon hai . baadalon kee aasteen se jab dhoop jhaankatee hai khelatee hai satoliya kuchh toote bikhare tukado sang .

मेरी सुबह की टहल में, एक अलग सा सुकून है । बादलों की आस्तीन से जब धूप झाँकती है खेलती है सतोलिया कुछ टूटे बिखरे टुकड़ो संग ।


main chal ke pahunchata hoon darakhton ke aaseb mein jahaan meree parachhaee mujh se zyaada khushanuma hai..

मैं चल के पहुँचता हूँ दरख्तों के आसेब में
जहाँ मेरी परछाई मुझ से ज़्यादा खुशनुमा है


main booton se chun leta hoon paripakvata kuchh traasadee see . yoon tinakon mein batora hai aashiyaana gir kar bhee.
Ek shaayar sa lagata hai begaana mera gam mujhe boond boond batorata hai tappe aashiqee ke .


मैं बूटों से चुन लेता हूँ परिपक्वता कुछ त्रासदी सी । यूँ तिनकों में बटोरा है आशियाना गिर कर भी । एक शायर सा लगता है बेगाना मेरा ग़म मुझे
बूंद बूंद बटोरता है टप्पे आशिक़ी के ।
main aankhen moond leta hoon khvaabon kee dhun achchhee lagatee hai.

मैं आंखें मूंद लेता हूँ ख्वाबों की धुन अच्छी लगती है।


Gulzar Shayari in Hindi & English

palak se paanee gira hai, to usako girane do, koee puraanee tamanna, pighal rahee hogee…
पलक से पानी गिरा है, तो उसको गिरने दो,
कोई पुरानी तमन्ना, पिघल रही होगी…


taareef… apane aap kee karana fizool hai khushabu…. khud bata detee hai kaun sa phool hai.
तारीफ़… अपने आप की करना फ़िज़ूल है
खुशबु..खुद बता देती है कौन सा फूल है।


tere shahar tak pahunch to jaata, raaste mein dariya padate hain, pul sab toone jala die the…
तेरे शहर तक पहुँच तो जाता,
रास्ते में दरिया पड़ते हैं,
पुल सब तूने जला दिए थे…


ye maana is dauraan kuchh saal beet gae hain phir bhee aankhon mein chehara tumhaara samaaye hue hai kitaabon pe dhul jamane se kahaanee kahaan badalatee hai

ये माना इस दौरान कुछ साल बीत गए हैं
फिर भी आँखों में चेहरा तुम्हारा समाये हुए है किताबों पे धुल जमने से कहानी कहाँ बदलती है


kab aa rahe ho mulaaqaat ke lie mainne chaand roka hai ek raat ke lie
कब आ रहे हो मुलाक़ात के लिए मैंने चाँद रोका है एक रात के लिए


kaas giraftaari teri najro me hoti to hum dil ko umr kaid ki saja dilva dete
कास गिरफ़्तारी तेरी नजरो में होती तो हम दिल को उम्रकैद की सजा दिलवा देते !


thoda bikhar se gaye hai sabko sambhalte sambhalte.
तोधा बिखर से गए है सबको सँभालते सँभालते


baat koi or hoti to kah bhi dete kambakht mohabat hai batai bhi nahi jati
बात कोई और होती तो कह भी देते कम्भाक्त मोहबत है बताई भी नहीं जाती!


tumko likh pana muskil hai itne khubsurat lafz hi nahi hai mere paas.
तुमको लिख पाना मुस्किल है इतने खुबसूरत लफ्ज़ ही नहीं है मेरे पास !


ungaliya aaj bhi is soch me gum hai ki unhone kaise naye haath ko thama hoga.
उंगलिया आज भी इस सोच में गम है की उन्होंने कैसे नए हाथ को थमा होगा !


hum achhe to pahle se hi the magar hosiar jamane vaalo ne bana diya.
हम अच्छे तो पहले से ही थे मगर होसियार ज़माने वालो ने बना दिया !


rahane de udhaar, ek mulaakaat yoon hee, suna hai “udhaar” vaalon ko log bhulaaya nahin karate…
रहने दे उधार, एक मुलाकात यूं ही,
सुना है “उधार” वालों को लोग भुलाया नहीं करते…!!


aaj har khaamoshee ko mita dene ka man hai, jo bhee chhipa rakha hai man mein loota dene ka man hai.
आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है,
जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है!


kaise gujar rahee hai sab poochhate hain, kaise gujaarata hoon, koee nahee poochhata.
कैसे गुजर रही है सब पूछते हैं,
कैसे गुजारता हूँ, कोई नही पूछता !


teree tarah bevapha nikale mere ghar ke aaeene bhee¸ khud ko dekhoon teree tasveer najar aatee hai
तेरी तरह बेवफा निकले मेरे घर के आईने भी¸ खुद को देखूं तेरी तस्वीर नजर आती है!


todakar jod lo chaahe¸ har cheej duniya kee¸ sab kuchh kaabile marammat hai etabaar ke siva.
तोड़कर जोड़ लो चाहे¸ हर चीज दुनिया की¸ सब कुछ काबिले मरम्मत है एतबार के सिवा!


kuchh shikaayat banee rahe¸ to behatar hai, chaashanee mein doobe rishte vaphaadaar nahee hote
कुछ शिकायत बनी रहे¸ तो बेहतर है,
चाशनी में डूबे रिश्ते वफादार नही होते.

Ek baar to yoon hoga, thoda sa sukoon hoga, na dil mein kasak hogee, na sar mein joonoon hoga.
एक बार तो यूँ होगा, थोड़ा सा सुकून होगा,
ना दिल में कसक होगी, ना सर में जूनून होगा !


Der Se Gunjte Hain Sannatey,
Jaise Humko Pukarta Hai Koi.
Kal Ka Har Waqia Tha Tumhara,
Aaj Ki Dastan Hai Hamari.

देर से गूंजते हैं सन्नाटे,
जैसे हमको पुकारता है कोई.
कल का हर वाक़िया था तुम्हारा,
आज की दास्ताँ है हमारी !


Aadatan Tumne Kar Diye Vaade,
Aadatan Humne Aitbaar Kiya.

आदतन तुमने कर दिए वादे,
आदतन हमने ऐतबार किया !


Jis Ki Ankhon Mein Kati Thi Sadiyan, Usne Sadiyon Ki Judai Di Hai.
जिस की आँखों में काटी थी सदियाँ,
उसने सदियों की जुदाई दी है!


Apne Saaye Se Chaunk Jaate Hain, Umar Guzri Hai Is Qadar Tanha.
अपने साये से चौंक जाते हैं,
उम्र गुजरी है इस क़दर तनहा !


Raakh Ko Bhi Kured Kar Dekho,
Abhi Jalta Ho Koi Pal Shayad.

राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद!


Mulakate to aaj bhi ho jati hai tumse. Mere khawab kisi majburi ke mohtaj nahi.
मुलाकातें तो । आज भी हो जाती है तुमसे । मेरे ख्वाब किसी मजबूरी के मोहताज नहीं।


Harne wale ka bhi apna alag matlaba hota hai. Afsos to o kare jo daud me samil nahi hue
हारने वालों का भी अपना अलग मतलबा होता है । अफसोस तो वो करें जो दौड़ में शामिल नहीं हुए।


Usko fursat hi nahi duniya se. vo ek saks. Jise mai apni duniya samajhata hun.
उसको फुर्सत ही नहीं दुनिया से । वो एक शक्स । जिसे मैं अपनी दुनिया समझता हूं ।

Baten hajar hai. Jahan me mere par jisse kar saku koi issa saks nahi. ~Gulzar Shayari…
बातें हजार हैं । जहन में मेरे पर जिससे कर सकूं कोई ऐसा शख्स नहीं ।


Halat sikha deti hai baten sunna aur sahna. Warna har saks. Apne aap me badshah hota hai
हालात सिखा देती हैं बातें सुनना और सहना । वरना हर शक्स । अपने आप में बादशाह होता है ।


Sabhi ke name par. Nahi rukti dhadkane. Dilo ke bhi kuchh usul hote hai.
सभी के नाम पर । नहीं रुकती धड़कनें । दिलों के भी कुछ उसूल होते हैं ।


Yun na jhako iss kadar mere ruh ke andar. Kuchh khwahise meri hai yahan belibas rahti hai.
यूं न झाको । इस कदर मेरे रूह के अंदर । कुछ ख्वाहिशें मेरी है यहाँ बेलिबास रहती हैं


kisee par mar jaane se hotee hain mohabbat, ishk jinda logon ke bas ka nahi.
किसी पर मर जाने से होती हैं मोहब्बत,
इश्क जिंदा लोगों के बस का नहीं।


bahut andar tak jala detee hain, vo shikaayate jo baya nahin hotee.
बहुत अंदर तक जला देती हैं, वो शिकायते जो बया नहीं होती।


kuchh alag karana ho to bheed se hat ke chalie, bheed saahas to detee hain, magar pahachaan chhin letee hain.
कुछ अलग करना हो तो भीड़ से हट के चलिए, भीड़ साहस तो देती हैं,
मगर पहचान छिन लेती हैं


zakhm kahate hain dil ka gahana hai, dard dil ka libaas hota hai
ज़ख़्म कहते हैं दिल का गहना है,
दर्द दिल का लिबास होता है


takaleef khud kee kam ho gayee, jab apanon se ummeed kam ho gaeen.
तकलीफ़ ख़ुद की कम हो गयी, जब अपनों से उम्मीद कम हो गईं।


Ek sapane ke tootakar chakanaachoor ho jaane ke baad..doosara sapana dekhane ke hausale ko ‘zindagee’ kahate hain.
एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद..दूसरा सपना देखने के हौसले को ‘ज़िंदगी’ कहते हैं।


jo jaahir ho jae vah dard kaisa, aur jo dard ko mahasoos na kar saka vah hamadard kaisa.
जो जाहिर हो जाए वह दर्द कैसा,
और जो दर्द को महसूस ना कर सका वह हमदर्द कैसा।


Gussa bhi kya karun tum par, hasnte huye behad ache lagte ho!!
गुस्सा भी क्या करूँ तुम पर, हसँते हुए बेहद अच्छे लगते हो !


unhen kabhee bahut fikr thee hamaaree jo aajakal hamaara haal tak nahin poochhate.
उन्हें कभी बहुत फ़िक्र थी हमारी जो आजकल हमारा हाल तक नहीं पूछते !


raaste kahaan khatm hote hai jindagee ke saphar mein, manjile to vahee hai jahaan khvaahishen tham jaen.
रास्ते कहाँ ख़त्म होते है जिंदगी के सफर में, मंजिले तो वही है जहाँ ख्वाहिशें थम जाएं !


bebas nigaahon mein hai tabaahee ka manzar, aur tapakate ashk kee har boond vafa ka izahaar karatee hai.

बेबस निगाहों में है तबाही का मंज़र,
और टपकते अश्क की हर बूंद
वफ़ा का इज़हार करती है…….


dooba hai dil mein bevaphaee ka khanjar, lamha-e-bekasee mein tasaavur kee duniya maut ka deedaar karatee hai.

डूबा है दिल में बेवफाई का खंजर,
लम्हा-ए-बेकसी में तसावुर की दुनिया
मौत का दीदार करती है……


ek baar to yoon hoga, thoda sa sukoon hoga, na dil mein kasak hogee, na sar mein joonoon hoga.


ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की… और कहेना, के कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश उनके आँचल का इंतज़ार करती है…


teree yaadon ke jo aakhiree the nishaan, dil tadapata raha, ham mitaate rahe… khat likhe the jo tumane kabhee pyaar mein, usako padhate rahe aur jalaate rahe.

तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे.


Tanhaee kee deevaaro pe ghutan ka parda jhool raha hai. bebasee kee chhat ke neeche,koee kisee ko bhool raha hai.

तन्हाई की दीवारो पे घुटन का पर्दा झूल रहा है. बेबसी की छत के नीचे,कोई किसी को भूल रहा है….


tere- karam- to -hain itane ki yaad hain ab tak, tere sitam hain kuchh itane ki hamako yaad nahin.
तेरे- करम- तो -हैं इतने कि याद हैं अब तक,
तेरे सितम हैं कुछ इतने कि हमको याद नहीं


Marane ki bat par jo rakhte the
Hotho pe ungaliya, afsos wahi
Mere jan ke qatil nikale..

मरने की बात पर जो रखते थे होठों पे
उंगलियाँ, अफ़सोस की वहीं मेरे जान के
कातिल निकले।।


Ak bhi kam ki n nikali, hath bhara
Pada he mera, bemtalab ki lakiro
Se

एक भी काम की न निकली, हाथ भरा
पड़ा है मेरा, बेमतलब की लकीरो से।।


Har gunah kabool he mujhe,
Bas saja dene wala bekasoor
Ho..

हर गुनाह कबूल है मुझे,
बस सजा देने वाला बेक़सूर हो।।


Kabhi fursat me yad kar liya
Karo, do pal hi to mangte he,
Puri jindagi to nahi.

कभी फुर्सत में याद कर लिया करो,
दो पल ही तो मांगते है, पूरी जिंदगी
तो नहीं।।


Chehra to mil jaega humse bhi khubsoorat, Per baat Jab DIL per aaegi, to haar jaoge.
चेहरा तो मिल जाएगा हुमसे भी खूबसूरत,
पर बात सब दिल पर आएगी, तो हार जाओगे।


Bahut mushkil se karta hu yaadon ka karobar, Munafa kam hai, per guzara ho jata hai
बहुत मुश्किल से करता हु यादों का कारोबार, मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो जाता है।


Suno zara rasta to batana,
Mohabaat ke safar se wapsi hai meri.

सुनो ज़रा रास्ता तो बताना,
महोब्बत के सफर से वापसी है मेरी।


Sham se Ankhon mai nami si hai,
Ajj phir aap ki kami si hai.

शाम से आँखों में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है।


is khamoshi to meri kamzori mat samjna, kalam jatkta hu to siahi aaj bhi door tak jati hai.
इस खामोशी को मेरी कमजोरी मत समझना, कलाम जटकता हु तो सियाही आज भी दूर तक जाती है।


mere dard ko bhee aah ka haq hain, jaise tere husn ko nigaah ka haq hai mujhe bhee ek dil diya hai bhagavaan ne mujh naadaan ko bhee ek gunaah ka haq hain.

मेरे दर्द को भी आह का हक़ हैं,
जैसे तेरे हुस्न को निगाह का हक़ है
मुझे भी एक दिल दिया है भगवान ने
मुझ नादान को भी एक गुनाह का हक़ हैं.


Bebas nigaahon mein hai tabaahee ka manzar, aur tapakate ashk kee har boond vafa ka izahaar karatee hai.

बेबस निगाहों में है तबाही का मंज़र,
और टपकते अश्क की हर बूंद
वफ़ा का इज़हार करती है.


1 thought on “Best Gulzar Shayari in Hindi and English”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *