Dhoka Shayari ¦ Dokha For Love & Sad😌

Dhokha shayari for WhatsApp. Romantic shayari SMS, Dhoka shayari for love and sad and miss. फांसलो का अहेसास तो तब हुआ, जब …उसे मालूम है दुनिया की हमदर्दी में धोके हैं..!

˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃

mana ye zindagi hai farebon ka silasila dekho kisi fareb ke jauhar kabhi kabhi samajh liya tha kabhi ek sarab ko dariya, par ek sukoon tha hamako fareb khaane mein !!


Mana ye zindagi
Dhoka Shayari

माना ये ज़िंदगी है फ़रेबों का सिलसिला
देखो किसी फ़रेब के जौहर कभी कभी
समझ लिया था कभी एक सराब को दरिया,
पर एक सुकून था हमको फ़रेब खाने में !!


barason fareb khate rahe doosaron se ham apani samajh mein aae badi mushkilon se ham ik ik qadam fareb-e-tamanna se bach ke chal duniya ki aarazoo hai to duniya se bach ke chal.


बरसों फ़रेब खाते रहे दूसरों से हम
अपनी समझ में आए बड़ी मुश्किलों से हम
इक इक क़दम फ़रेब-ए-तमन्ना से बच के चल, दुनिया की आरज़ू है तो दुनिया से बच के चल..!


duniya ne teri yaad se begana kar diya tujh se bhee dil-fareb hain gam rozagar ke..


दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया
तुझ से भी दिल-फ़रेब हैं ग़म रोज़गार के.!


judaiyan hon to aisi ki umr bhar na milen fareb do to zara silasile badha ke mujhe..


जुदाइयाँ हों तो ऐसी कि उम्र भर न मिलें
फ़रेब दो तो ज़रा सिलसिले बढ़ा के मुझे.!


Har ik shikast-e-tamanna pe muskurate hain vo kya karen jo musalasal fareb khate hain.


हर इक शिकस्त-ए-तमन्ना पे मुस्कुराते हैं
वो क्या करें जो मुसलसल फ़रेब खाते हैं..!


Bade vasooq se duniya fareb deti hai, bade khuloos se ham aitabar karate hain !! ye aur baat ki manzil-fareb tha lekin hunar vo janata tha ham-safar banane ka..


Bade vasuk
Vasuk Dhoka Shayari

बड़े वसूक़ से दुनिया फ़रेब देती है,
बड़े ख़ुलूस से हम ऐतबार करते हैं !!
ये और बात कि मंज़िल-फ़रेब था लेकिन
हुनर वो जानता था हम-सफ़र बनाने का!!


Ussay Maloom Hai Duniya Ki Hamdardi Mein Dhokay Hain
Ali Woh Sog Mein Bhi Ho Toh Ban Thann Kar Nikalti Hai.


उसे मालूम है दुनिया की हमदर्दी में धोके हैं
अली वह सोग में भी हो तोह बन थांन कर निकलती है.!


Na Jaane Kaun Sa Aaseb Dil Mai Basta Hai
Ki Jo Bhi Thahra Wo Akhir Makaan Chor Gaya.


न जाने कौन सा आसेब दिल मे बसता है
की जो भी ठहरा वो आखिर मकान छोड़ गया..!


Wo Mujh Ko Chor Ke Jis Admi Ke Pass Gaya,
Barabari Ka Bhi Hota To Sabr Aa Jaata..


वो मुझ को छोड़ के जिस आदमी के पास गया, बराबरी का भी होता तो सब्र आ जाता..!


Us K Yuun Tark-e-Mohabbat Ka Sabab Hoga Koi,
Jee Nahi Ye Manta Wo Bewafa Pehle Se Tha..


उस के यूँ तर्क-ए-मोहब्बत का सबब होगा कोई, जी नहीं ये मानता वो बेवफ़ा पहले से था..!


Pyar me dhoka khakar bhi,
Khush hai hum.
Pyar to tumhi se karenge,
Chahe tum dhao kitne bhi sitam.


Pyar me dhoka
Pyar me Dhoka Shayari

प्यार में धोखा खाकर भी,
खुश है हम।
क्यूंकि प्यार तो तुम्ही से करेंगे,
चाहे तुम ढाओ कितने भी सितम .!


DIL ki tabiyat mast hoti hai,
Jab tu iske paas hoti hai.
Jaise hi mera mehboob door chala jaye,
Mere aashiq dil ko kuch naa bhaye…


दिल की तबियत मस्त होती है ,
जब तू इसके पास होती है।
जैसे ही मेरा महबूब दूर चला जाये,
मेरे आशिक दिल को कुछ ना भाये।


Dhoka Shayari in Hindi…


Ham ishq nibhate rahe, vo peeth peechhe majaak udate rahe, jab tak zaroorat thi hamari unhen, tab tak sath hone ka thonga dikhaten rahe.


हम इश्क़ निभाते रहे,
वो पीठ पीछे मजाक उड़ाते रहे,
जब तक ज़रूरत थी हमारी उन्हें,
तब तक साथ होने का ठोंगा दिखातें रहे।


Bas jeene ki kuchh vazah honi chahie, vaade na sahi, saath na sahi, yade to honi chaahie.


बस जीने की कुछ वज़ह होनी चाहिए,
वादे ना सही, साथ ना सही,
यादे तो होनी चाहिए।


Dil hazaar baar cheekhe use chillane deejie, jo aapaka nahi ho sakata use jaane deejie.


दिल हज़ार बार चीखे उसे चिल्लाने दीजिए,
जो आपका नही हो सकता उसे जाने दीजिए।


Bhoolane ki tujhe hamanen na jane kya kya jugan kiye, jis vaqt thi to meri zindagi me, us vaqt ke panne bhi hamane phaad diye.


Bulane ki tujhe

भूलने की तुझे हमनें न जाने क्या क्या जुगाङ किये, जिस वक़्त थी तो मेरी ज़िंदगी मे, उस वक़्त के पन्ने भी हमने फाड़ दिये।


Mohabbt bhi karake dekhi hai, ye sab dhokha hai. vaqt ki baat hai, vaqt par koi kisi ka nahi hota hai.


Mohabbat Ki Dhoka Shayari


मोहब्ब्त भी करके देखी है,
ये सब धोखा है।
वक़्त की बात है,
वक़्त पर कोई किसी का नही होता है।


Qismat kee bhi mere saath ajeeb thitholi, jise chaha dil se, vo bhee vakt ke sath kisi aur ki ho lee.


क़िस्मत की भी मेरे साथ अजीब ठिठोली,
जिसे चाहा दिल से, वो भी वक्त के साथ किसी, और कि हो ली।


kaash milata koee aisa jo mujhapar marata ho, koee aisa shaksh de khuda jo mujhe khone se darata ho.


काश मिलता कोई ऐसा जो मुझपर मरता हो, कोई ऐसा शक्श दे ख़ुदा जो मुझे खोने से डरता हो।


Aankhon se aanshu bhi nahi nikal paate hai dost, jab log dhokha apanon se khate hai..


आंखों से आँशु भी नही निकल पाते है दोस्त,
जब लोग धोखा अपनों से खाते है।


Hamesha se no na raha hoga itana shakht e dil, jaroor kisi ne teri maasoomiyat ke saath khela hoga.


हमेशा से नो न रहा होगा इतना शख्त ए दिल,
जरूर किसी ने तेरी मासूमियत के साथ खेला होगा।


Harakar koi jaan bhi le le, mujhe manjur hai,.par dhokha dene vaalon ko mai dubara mauka nahi deta..


हराकर कोई जान भी ले ले,
मुझे मंजुर है,पर…….
धोखा देने वालों को मै दुबारा मौका नही देता!


Dard itana tha zindagi mein ki, dhadakan saath dene se ghabara gayi! aankhen band thi kisi ki yaad, mein or maut dhokha kha gayi !!


Dard itna tha

दर्द इतना था ज़िंदगी में कि,
धड़कन साथ देने से घबरा गयी!
आंखें बंद थी किसी कि याद,
में ओर मौत धोखा खा गयी!!


kuchh lutakar, kuchh lootakar laut aaya hoon, vafa ki ummeed mein dhokha khakar laut aaya hoon | ab tum yaad bhi aaogi, phir bhi na paogi, hasate labon se aise saare gam chhupakar laut aaya hoon..


कुछ लुटकर, कुछ लूटाकर लौट आया हूँ,
वफ़ा की उम्मीद में धोखा खाकर लौट आया हूँ |
अब तुम याद भी आओगी, फिर भी न पाओगी, हसते लबों से ऐसे सारे ग़म छुपाकर लौट आया हूँ |


1 thought on “Dhoka Shayari ¦ Dokha For Love & Sad😌”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *