Beautiful Islamic Shayari in Hindi ¦ Islamic sms, quotes, and message..

Islamic Shayari, Islamic SMS, Islamic Poetry, Islamic Shayari Hindi, Islamic Shayri, Islamic Sher o Shayari, Islamic Quotes in Hindi, इस्लामिक शायरी हिंदी में शेयर कर रहा हु जो आपके लिए बेस्ट islamic shayari इस्लामिक शायरी इन हिंदी : इस दुनिया में कई धर्म है जिन अलग-2 धर्म में …

˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃

मैं किसी से किआ मांगोँ क्यूँ मांगोँ और कब..
जब दे रहा है सब कुछ बिन मांगे ही मेरा रब


Main Kisi Se Kia Mangoun Kyun Mangoun Aur Kab..
Jab De Raha Hai Sab Kuch BIn Mangey Hi Mera RAB !!


तुझे मालूम भी नहीं होने दें जिन..
तेरी दुआओं में अमीन बोलते रहे जिन..!


Tujhe Maloom Bhi Nahi Hone Dein Gein..
Teri Duaon Main AMEEN Bolte Rahein Gein..


ऐ खुदा सुना है क क़बूलियत का एक वक़्त होता हैं,
फिर तू ही बता क मैं ने उसी किस पल नहीं माँगा !!


Ae KHUDA Suna Hai K Qabooliyat Ka Ek Waqt Hota Hain, Phir Tu Hi Bata K Main Ne Usy Kis Pal Nahi Maanga !!


तेरी प्यार से है ज़िन्दगी में रौनक,
इस लिए अपनी नहीं तेरी ज़िन्दगी की दुआ करते हैं !!


Tery Pyar Se Hai Zindagi Me Ronaq, Is Liye Apni Nahi Teri Zindagi Ki DUA Karte Hain !!


जब जब दुआ के लिए हाथ उठे मेरे..
मैं ने बस तुम्हे और तुम्हारे लिए माँगा !!


Jab Jab Dua Ke Liye Hath Uthey Mere..
Main Ne Bas Tumhe Aur Tumhare Liye Manga !!


सबीर से रेहमत का इंतज़ार कर..
जो चीज़ तेरे लिए है तेरे लिए ही है..!


Saber Se Rehmat Ka Intezaar Kar.. Jo Cheez Tere Liye Hai Tere Liye Hi Hai..


जब हम तक़लीफ़ में होती है..
तो अल्लाह और माँ ही याद आती है !!


Jab Ham Taqleef Me Hotey Hai..
To ALLAH Aur MAA hi Yaad Aati Hai !!


जब आप फ़िक्र में होती हैं तब आप जलती हैं, जब आप बे-फ़िक्र होते हैं तब दुनिया आप से जलती हैं.


Jab Aap Fikar Me Hoty Hain Tab Aap Jalty Hain,
Jab Aap Be-Fikar Hote Hain Tab Duniya Aap Se Jalti Hain.


Jab ap fikr me
Islamic shayari

जब आप फ़िक्र में होती हैं तब आप जलती हैं, जब आप बे-फ़िक्र होते हैं तब दुनिया आप से जलती हैं.


Rab Agar De To Koi Cheen Nahi Sakta, Agar Wo Cheen Le Toh Koi De Nahi Sakta..


तुम जन्नत न मांगों, बल्कि तुम दुनिया में ऐसे काम करो, के जन्नत तुमको मांगे !!


Tum jannat na mangon, balki Tum duniya mein aise kaam karo, ke jannat tumako mange..


मुमकिन ना मुमकिन तोह तुम्हारी सोच हैं,
अल्लाह की ज़ात के लिए सब मुमकिन हैं !


Mumkin Na Mumkin Toh Tumhari Soch Hain,
ALLAH Ki Zaat Ke Liye Sab Mumkin Hain !!


मोहब्बत और इबादत में फ़र्क़ तो है नाँ
सो छीन ली है तिरी दोस्ती मोहब्बत ने
-इफ़्तिख़ार मुग़ल..


Mohabbat aur ibadat mein farq to hai naan so chheen lee hai tiri dosti mohabbat ne.


जिसे पूजा था हमने वो तो ख़ुदा ना हो सका
हम ही इबादत करते-करते फ़कीर हो गये!


Jise pooja tha hamane vo to khuda na ho saka ham hee ibadat karate-karate fakir ho gaye……


Islamic Shayari {इस्लामिक शायरी }

˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃˂˃

क़ुबूल इस बारगह में इल्तिजा कोई नहीं होत, इलाही या मुझी को इल्तिजा करना नहीं आता !


Qubool is baragah mein iltija koee nahin hotee ilahee ya mujhi ko iltija karana nahin aata.


उसे पाक नज़रों से चूमना भी इबादतों में शुमार है, कोई फूल लाख क़रीब हो कभी मैं ने उस को छुआ नहीं…


Use paak nazaron se choomana bhi ibaadaton mein shumaar hai koee phool laakh qareeb ho kabhee main ne us ko chhua nahin.


Islamic shayari

बे-ज़रूरत भी कर लिया सज्दा
ये इबादत बड़ी इबादत है.!


Be-zaroorat bhee kar liya sajda ye ibaadat badee ibaadat hai..


नमाज़ इक भी हरगिज़ न उस ने क़ज़ा की
शब ओ रोज़ करता इबादत ख़ुदा की.


Namaaz ik bhee haragiz na us ne qaza ki shab o roz karata ibaadat khuda kee..


तिरे लिए तो झुकाना भी सर इबादत है
अगर झुका न सके दिल तो बंदगी क्या है !


Tire lie to jhukana bhee sar ibaadat hai agar jhuka na sake dil to bandagee kya hai.


न मय-कशी न इबादत हमारी आदत है
कि सामने कोई काम आ गया तो कर लेना !


Na may-kashee na ibaadat hamari aadat hai ki samane koee kaam aa gaya to kar lena.


तो दोस्तों अब देर कैसी आईये लुफ्त उठाये आज की सबसे बेहतरीन लाज़वाब पोस्ट निकाह शायरी का और अपने दोस्तों को शेयर करे अपने मनपसंद शायरी को !


To doston ab der kaisi aaeeye lupht uthaaye aaj kee sabase behatareen lazavab post nikaah shayari ka aur apane doston ko sheyar kare apane manapasand shaayari ko..


वो तो अपने निकाह की तारीख बताने आये थे, हमें लगा हमें मोहब्बत की तालीम देने आये हैं ।।


Vo to apane nikaah kee tareekh batane aaye the, hamen laga hamen mohabbat kee taleem dene aaye hain ..


ऐ तन्हाई तू अब निकाह कर ले मुझसे,
जब उम्र भर साथ ही रहना है,
तो चल जमाने कि ये रस्मे भी अदा कर लें!


Ai tanhaee too ab nikaah kar le mujhase, jab umr bhar saath hee rahana hai, to chal jamane ki ye rasme bhi ada kar len ..


बारहा तेरा इंतिज़ार किया
अपने ख़्वाबों में इक दुल्हन की तरह ।।


Baraha tera intizaar kiya apane khvabon mein ik dulhan kee tarah ..


मेरी औकात इस काबिल तो नहीं कि मैं जन्नत में हूं या रब दुआ बस इतनी सी है कि मुझे जहन्नम से बचा लेना.


Meri aukaat is kaabil to nahin ki main jannat mein hoon ya rab dua bas itani see hai ki mujhe jahannam se bacha lena..


जिन घरों में सुबह के वक्त कुरान की तिलावत होती है उनके घर आसमान वालों के लिए यू चमकते हैं जैसे जमीन वालों के लिए सितारे..


Jin gharon mein subah ke vakt kuran ki tilaavat hotee hai unake ghar aasamaan vaalon ke lie yoo chamakate hain jaise jameen valon ke lie sitare..


मोमिन वोी जिसकी महफिल पाक है, मोमिन वो है जिसकी तन्हाई पाक है. !


Momin voee jisaki mahaphil paak hai, momin vo hai jisaki tanhaee paak hai.


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *