Beautiful Islamic Shayari Hindi Mein ¦ Islamic Shero Shayari

इस्लामिक शरे ओ शायरी हिन्दी

Rab agar de tho

रब अगर दे तो कोई छीन नहीं सकता, अगर वो चीन ले तोह कोई दे नहीं सकता..


Rab Agar De To Koi Cheen Nahi Sakta, Agar Wo Cheen Le Toh Koi De Nahi Sakta..


जब आप फ़िक्र में होती हैं तब आप जलती हैं, जब आप बे-फ़िक्र होते हैं तब दुनिया आप से जलती हैं.!


तुम जन्नत न मांगों, बल्कि तुम दुनिया में ऐसे काम करो, के जन्नत तुमको मांगे.!!


Tum jannat na mangon, balki Tum duniya mein aise kaam karo, ke jannat tumako mange..


मुमकिन ना मुमकिन तोह तुम्हारी सोच हैं, अल्लाह की ज़ात के लिए सब मुमकिन हैं !


Mumkin Na Mumkin Toh Tumhari Soch Hain,
Allah Ki Zaat Ke Liye Sab Mumkin Hain..


मोहब्बत और इबादत में फ़र्क़ तो है नाँ
सो छीन ली है तिरी दोस्ती मोहब्बत ने
– इफ़्तिख़ार मुग़ल..


Mohabbat aur ibadat mein farq to hai naan so chheen lee hai tiri dosti mohabbat ne.


जिसे पूजा था हमने वो तो ख़ुदा ना हो सका हम ही इबादत करते-करते फ़कीर हो गये.!


Jise pooja tha hamane vo to khuda na ho saka ham hee ibadat karate-karate fakir ho gaye…


Islamic Shayari – इस्लामिक शायरी इन हिन्दी

Sikandar ho tum

पूरी दुनिया को ख़फ़ा में रहने दो, अगर माँ बाप खुश हो तो सिकंदर हो तुम.!


Poori duniya ku khafa me rahne do, Agar Maa Baap khush ho tho sikandar ho tum..


जब हम तक़लीफ़ में होती है,
तो अल्लाह और माँ ही याद आती है !!


Jab Ham Taqleef Me Hotey Hai, Tho Allah Aur Maa hi Yaad Aati Hai…


ये रब मेरे माँ – बाप ही,
मेरी ज़िन्दगी है. उनको हमेशा सलामत रखना.!


Ye rab mere maa – baap hi,
meri zindagi hai, unko hamesha salamath rakhna..


क़ुबूल इस बारगह में इल्तिजा कोई नहीं होत, इलाही या मुझी को इल्तिजा करना नहीं आता !


Qubool is baragah me iltija koi nahi hothi ilahi ya mujhi ko iltija karna nahi aatha..


उसे पाक नज़रों से चूमना भी इबादतों में शुमार है, कोई फूल लाख क़रीब हो कभी मैं ने उस को छुआ नहीं…


Use paak nazaron se choomana bhi ibaadaton mein shumaar hai koee phool laakh qareeb ho kabhee main ne us ko chhua nahin..


बे-ज़रूरत भी कर लिया सज्दा
ये इबादत बड़ी इबादत है.!


Be-zaroorat bhee kar liya sajda ye ibaadat badee ibaadat hai..


Islamic Nikah Shayari In Hindi

Nikah tumse

वफ़ा भी तुमसे और कफ़्फ़ा भी तुमसे,
और देख लेना एक दिन निकाह भी तुमसे.!


Wafa bhi tumse or kaffa bhi tumse, aur dekh lena ek din nikah bhi tumse.


तो दोस्तों अब देर कैसी आईये लुफ्त उठाये आज की सबसे बेहतरीन लाज़वाब पोस्ट निकाह शायरी का और अपने दोस्तों को शेयर करे अपने मनपसंद शायरी को.!


To doston ab der kaisi aaeeye lupht uthaaye aaj kee sabase behatareen lazavab post nikaah shayari ka aur apane doston ko sheyar kare apane manapasand shaayari ko..


वो तो अपने निकाह की तारीख बताने आये थे, हमें लगा हमें मोहब्बत की तालीम देने आये हैं.!!


Vo to apane nikaah kee tareekh batane aaye the, hamen laga hamen mohabbat kee taleem dene aaye hain…


ऐ तन्हाई तू अब निकाह कर ले मुझसे,
जब उम्र भर साथ ही रहना है,
तो चल जमाने कि ये रस्मे भी अदा कर लें.!


Ai tanhaee too ab nikaah kar le mujhase, jab umr bhar saath hee rahana hai, to chal jamane ki ye rasme bhi ada kar len..


नमाज़ इक भी हरगिज़ न उस ने क़ज़ा की शब ओ रोज़ करता इबादत ख़ुदा की.!


Namaaz ik bhi haragiz na us ne qaza ki shab o roz karata ibaadat khuda kee..


तिरे लिए तो झुकाना भी सर इबादत है, अगर झुका न सके दिल तो बंदगी क्या है.!


Tire lie to jhukana bhee sar ibaadat hai agar jhuka na sake dil to bandagee kya hai.


न मय-कशी न इबादत हमारी आदत है, कि सामने कोई काम आ गया तो कर लेना.!


Na may – kashi na ibaadat hamari aadat hai ki samane koi kaam aa gaya to kar lena.


Muslim Shayari In Hindi

Momin vo hai

मोमिन वोी जिसकी महफिल पाक है, मोमिन वो है जिसकी तन्हाई पाक है.!


Momin voyi jiski mehphil paak hai, momin vo hai jiski tanhai paak hai.


बारहा तेरा इंतिज़ार किया
अपने ख़्वाबों में इक दुल्हन की तरह!


Baraha tera intizar kiya apne khvabon me ik dulhan kee tarah..


मेरी औकात इस काबिल तो नहीं कि मैं जन्नत में हूं या रब दुआ बस इतनी सी है कि मुझे जहन्नम से बचा लेना.!


Meri aukaat is kaabil to nahi ki main jannat me hoon ya rab dua bas ithni see hai ki mujhe jahannam se bacha lena..


जिन घरों में सुबह के वक्त कुरान की तिलावत होती है उनके घर आसमान वालों के लिए यू चमकते हैं जैसे जमीन वालों के लिए सितारे.!


Jin gharon mein subah ke vakt kuran ki tilaavat hotee hai unake ghar aasamaan vaalon ke lie yoo chamakate hain jaise jameen valon ke lie sitare..


Thanks for visiting us, I hope you like this Islamic Shayari please do share don’t forget..

Read More :

Leave a Comment

Your email address will not be published.