Top 20+ Piyush Mishra Shayari ~ poems, thoughts on love & life.

Piyush Mishra shayari that will Fall You in Love with Shayari.वो दर्द में पटका परेशान सर
पटिया पे जो मारा था..!


उस घर से हमको चिढ़ थी जिस घर
हरदम हमें आराम मिला…
उस राह से हमको घिन थी जिस पर
हरदम हमें सलाम मिला…!


Us ghar se hamako chidh thi jis ghar haradam hamen aaram mila, us raah se hamako ghin thi jis par haradam hamen salam mila…


Us bhare
Piyush Mishra Shayari

उस भरे मदरसे से थक बैठे
हरदम जहां इनाम मिला…
उस दुकां पे जाना भूल गए
जिस पे सामां बिन दाम मिला…!


Us bhare madarase se thak baithe haradam jahan inam mila, us dukaan pe jana bhool gae jis pe saman bin daam mila…


हम नहीं हाथ को मिला सके
जब मुस्काता शैतान मिला…
और खुलेआम यूं झूम उठे
जब पहला वो इन्सान मिला…!


Ham nahin haath ko mila sake jab muskata shaitan mila… aur khuleam yoon jhoom uthe jab pahala vo insaan mila…


वो दर्द में पटका परेशान सर
पटिया पे जो मारा था
वो भूख बिलखता किसी रात का
पहर जो मैंने लिक्खा था…!


Vo dard mein pataka pareshaan sar patiya pe jo mara tha vo bhookh bilakhata kisi raat ka pahar jo mainne likkha tha…


तुम्ही पे मरता है ये दिल अदावत क्यों नहीं करता, कई जन्मों से बंदी है बगावत क्यों नहीं करता, कभी तुमसे थी जो वो ही शिकायत है ज़माने से, मेरी तारीफ़ करता है मोहब्बत क्यों नहीं करता..!


Tumhi pe marta hai ye dil adawat kyu nahi karta,
kai janmo se bandi hai bagawat kyu nahi karta,
kabhi tumse thi jo wo hi shikayat he jamane se,
meri taarif karta hai mohabbat kyu nahi karta.


एक पहाडे सा मेरी उँगलियों पे ठहरा है,
तेरी चुपी का सबब क्या है इसे हल कर दे,
ये फ़क़त लफ्ज है तो रोक दे रास्ता इन् का,
और अगर सच है तो बात मुक़मल कर दे.!


Ek Pahade Sa Meri Ungliyo Pe Thehra Hai,
Teri Chupi Ka Sabab Kya Hai Ise Hal Kar De,
Ye Faqt Lafj Hai To Rok De Rasta Inn Ka,
Aur Agar Sach Hai To Baat Muqamal Kar De…


वो अजमल था या वो कसाब
कितनी ही लाशें छोड़ गया
वो किस वहशी भगवान खुदा का
कहर जो मैंने लिक्खा था…!


Vo ajamal tha ya vo kasaab kitani hi lashen chhod gaya vo kis vahashi bhagavan khuda ka kahar jo mainne likkha tha…


शर्म करो और रहम करो
दिल्ली पेशावर बच्चों की
उन बिलख रही मांओं को रोक
ठहर जो मैंने लिक्खा था…!


Sharm karo aur raham karo dillee peshavar bachchon ki un bilakh rahi manon ko rok thahar jo mainne likkha tha..


My kya shayar
Piyush Mishra Shayari

मैं क्या शायर हूं शेर शाम को
मुरझा के दम तोड़ गया
जो खिला हुआ था ताज़ा दम
दोपहर जो मैंने लिक्खा था…!


Main kya shayar hoon sher sham ko murajha ke dam tod gaya jo khila hua tha taza dam dopahar jo mainne likkha tha…


एक दो दिन में वो इकरार कहा आएगा,
हर सुबह एक ही अखबार कहा आएगा,
आज बंधा है जो इन् बातों में तो बहाल जायेंगे, रोज इन् बाहों का त्यौहार कहा आएगा..!


Ek do din me wo ikraar kaha ayega,
Har subah ek hi akhbaar kaha ayega,
Aaj bandha hai jo inn baaton me to bahal jayenge,
Roj inn baahon ka tyohaar kaha ayega.


जहां पर खत्म होती थी मेरी खवाइश की जिद कल तक,
उसी एक मोड़ तक खुद के सफर को मद रखा है, किताब-इ-जिंदगी यु पढ़ रही है आज कल दुनिया, तुम्हारे नाम को अब भी वर्क छोड़ रखा है.!


Jaha Par Khtam Hoti Thi Meri Khawaish Ki Jid Kal Tak,
Usi Ek Mod Tak Khud Ke Safar Ko Md Rakha Hai,
Kitab-E-Jindagi Yu Padh Rahi Hai Aaj Kal Duniya,
Tumhare Naam Ko Ab Bhi Wark Chod Rakha Hai.


Piyush Mishra Shayari Two lines


आज तक उस थकान से दुःख रहा है बदन,
एक सफ़र किया था मैंने ख्वाहिशो के साथ!


Aaj tak us thakaan se duhkh raha hai badan, ek safar kiya tha mainne khvahisho ke saath..


हम नफरत के काबिल थे तो नफरत से ही मार देते…!
क्यों अपनी महफ़िल में बुलाकर प्यार से कह दिया.. कौन हो तुम..!!


Ham napharat ke kaabil the to napharat se hee maar dete…! kyon apani mahafil mein bulakar pyar se kah diya.. kaun ho tum..


जिन्दगी की हर सुबह कुछ शर्ते लेके आती है, और जिन्दगी की हर शाम तजुर्ब दे जाती है।…..!!


jindagi ki har subah kuchh sharte leke aathi hai aur jindagi ki har sham tajurb de jaathi hai.


हमारे शेर सुन कर के जो खामोश इतना है,
खुदा जाने ग़ुरूर-इ-हुस्न में मदहोश कितना है..!


Hamare sher sun kar ke jo khamosh itna hai,
khuda jaane gurur-e-husn me madhosh kitna hai..


Kisi pyale se
Piyush Mishra Shayari

किसी प्याले से पूछा है सुरहि ने सबब मेह का, जो खुद बेहोश हो कैसे बताये होश कितना है.!


Kisi pyale se pucha hai surahi ne sabab meh ka,
jo khud behosh ho keise bataye hosh kitna hai.


सौदा कुछ ऐसा किया है तेरे ख़्वाबों ने मेरी नींदों , या तो दोनों आते हैं या कोई नहीं आता !!!


Sauda kuchh aisa kiya hai tere khvabon ne meri neendon se…. ya to donon aate hain …. ya koi nahin aata !!


इन हसरतों को इतना भी कैद में ना रख ए-जिंदगी,.!
ये दिल भी थक चुका है, इनकी जमानत कराते कराते…!!


In hasaraton ko itana bhi kaid mein na rakh e-jindagi,.. ye dil bhi thak chuka hai, inaki jamanat karate karate…!!


कांटो से बच बच के चलता रहा उम्र भर..
क्या खबर थी की.. चोट एक फूल से लग जायेगी..!


Kanto se bach bach ke chalata raha umr bhar.. kya khabar thi ki.. chot ek phool se lag jayegi..


कहा पे गम हो इस बार की बरसात में तुम,
इन् खयालो से भी मिलती हो कभी रात में तुम..!


Kaha Pe Gum Ho Iss Bar Ki Barsaat Mein Tum,
Inn Khayalo Se Bhi Milti Ho Kabhi Raat Mein Tum.


Ek tuhare siva
Piyush Mishra Shayari

इक ‘तुम्हारे सिवा था ही ‘कौन मेरा..
फिर तनहा ‘किस के ‘सहारे छोड़ गये तुम !


ik tumhare siva tha hee kaun mera.. phir tanaha kis ke sahare chhod gaye tum..


बहुत अंदर तक तबाही मचा देता है ..
वो अश्क जो आँख से बह नहीं पाता..!


Bahut andar tak tabaahee macha deta hai , vo ashk jo aankh se bah nahin paata…


Leave a Comment

Your email address will not be published.