Best Javed Akhtar Shayari in Hindi – जावेद अख्तर.

Javed Akhtar Shayari available in Hindi.best collection of romantic, love, sad, and life. तब हम दोनों वक़्त चुरा कर लाते थे, अब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती है..!

✧✧✧✧✧✧✧✧✧✧✧✧

छोड़ कर जिस को गए थे आप कोई और था, अब मैं कोई और हूँ वापस तो आ कर देखिए !


Chhod kar jis ko gae the aap koi aur tha ab main koi aur hoon vaapas to aa kar dekhie.


Akhal ye kahti
Javed akhtar shayari

अक़्ल ये कहती दुनिया मिलती है बाज़ार में
दिल मगर ये कहता है कुछ और बेहतर देखिए !


Aql ye kahati duniya milathi hai bazaar mein dil magar ye kahata hai kuchh aur behatar dekhie.


तू तो मत कह हमें बुरा दुनिया
तू ने ढाला है और ढले हैं हम..!


Too to mat kah hamen bura duniya tu ne dhaala hai aur dhale hain ham.


तब हम दोनों वक़्त चुरा कर लाते थे
अब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती है.


Tab ham donon vaqt chura kar laate the ab milate hain jab bhi fursat hotee hai..


तुम फ़ुज़ूल बातों का दिल पे बोझ मत लेना
हम तो ख़ैर कर लेंगे ज़िंदगी बसर तन्हा.!


Tum fuzool baaton ka dil pe bojh mat lena ham to khair kar lenge zindagi basar tanha..


ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेना, बहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता.!


Galat baaton ko khaamoshi se sunana haami bhar lena bahut hain faede is mein magar achchha nahin lagata..


तमन्‍ना फिर मचल जाए, अगर तुम मिलने आ जाओ,
यह मौसम ही बदल जाए, अगर तुम मिलने आ जाओ.!


Taman‍na phir machal jae, agar tum milane aa jao yah mausam hee badal jae, agar tum milane aa jao..


मुझे गम है कि मैने जिन्‍दगी में कुछ नहीं पाया, ये गम दिल से निकल जाए, अगर तुम मिलने आ जाओ.!


Mujhe gam hai ki maine jin‍dagi mein kuchh nahin paaya ye gam dil se nikal jae, agar tum milane aa jao..


Ye duniya bhar
Javed Akhtar Shayari

ये दुनिया भर के झगड़े घर के किस्‍से काम की बातें, बला हर एक टल जाए,अगर तुम मिलने आ जाओ.!


Ye duniya bhar ke jhagade ghar ke kis‍se kaam ki baaten bala har ek tal jae,agar tum milane aa jao.


तू तो मत कह हमें बुरा दुनियातू ने ढाला है और ढले हैं हम
तब हम दोनों वक़्त चुरा कर लाते थेअब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती !


Too to mat kah hamen bura duniyatoo ne dhala hai aur dhale hain ham tab ham donon vaqt chura kar laate theab milate hain jab bhi fursat hoti.


ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेनाबहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता..!


Galat baaton ko khamoshi se sunana haamee bhar lenabahut hain faede is mein magar achchha nahin lagata.


Javed Akhtar Shayari for love&life


दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैंज़ख़्म कैसे भी हों कुछ रोज़ में भर जाते हैं


Dard ke phool bhi khilate hain bikhar jate hainzakhm kaise bhi hon kuchh roz mein bhar jaate hain..


जब जब दर्द का बादल छाया, जब ग़म का साया लहराया
जब आंसू पलकों तक आया,जब यह तनहा दिल घबराया
हमने दिल को यह समझाया, दिल आखिर तू क्यों रोता है,
दुनिया में यूँ ही होता है.!


Jab jab dard ka baadal Chaya, Jab gham ka saaya lehraya
jab aansoo palkon tak aaya, Jab yeh tanha dil ghabraya
humne dil ko yeh samjhaya, Dil aakhir tu kyun rota hai,
duniya mein yun hi hota hai.


अब अगर ाओ तोह जाने के लिए मत आना, सिर्फ एहसान जताने के लिए मत आना मैंने पलकों पे तमन्नाएं सजा रखी हैं!


Ab agar aao toh jane ke liye mat aana,
Sirf ehsaan jataane ke liye mat aana
Maine palakon pe tamannayein saja rakhi hain..


दिल में उम्मीद की सौ शम्में जला रखी हैं
ये हसीं शम्में बुझाने के लिए मत आना.!


Dil mein ummeed ki sau shammein jala rakhi hain
Ye haseen shammein bujhane ke liye mat aana.


जाते जाते वह मुझे, अच्छी निशानी दे गया,
उम्र भर दोहराऊंगा, ऐसी कहानी दे गया
उस से मैं कुछ पा सकू, ऐसी कहां उम्मीद थी…!


Jaate jaate woh mujhe, achchi nishani de gaya,
umra bhar dauharaunga, aisi kahani de gaya
uss se main kuchh pa saku, aisi kahan ummeed thi.


Gam bhi vaha
Gham Javed Akhtar Shayari

ग़म भी वह शायद, बारे –ऐ- मेहरबानी दे गया खैर ,मैं प्यासा रहा, पर उसने इतना तोह किया मेरी पलकों की कतारों को वह पानी दे गया..!


Gham bhi woh shayad, bara –ae- meharbani de gaya
Khair ,main pyasa raha, par usne itna toh kiya
meri palkon ki kataaron ko woh pani de gaya..


क्यों डरें ज़िन्दगी में क्या होगा,
कुछ न होगा तोह तज़ुर्बा होगा
हँसती आँखों में झांक कर देखो,
कोई आंसूं कहीं छुपा होगा.!


Kyon darein zindagi mein kya hoga,
Kuch na hoga toh tazurba hoga
Hansti ankhon mein jhaank kar dekho,
Koi ansun kahin chupa hoga.


उफुक फलांग के उमरा हुजूम लोगों का कोई मीनारे से उतरा, कोई मुंडेरों से किसी ने सीढियां लपकीं, हटाई दीवारें…!


Uphuk phalang ke umara hujoom logon ka koee meenare se utara, koi munderon se kisi ne seedhiyan lapakeen, hatai deevaren…


बस चन्द करोड़ों सालों में सूरज की आग बुझेगी जब और राख उड़ेगी सूरज से जब कोई चाँद न डूबेगा !


Bas chand karodon saalon mein sooraj ki aag bujhegi jab aur raakh udegi sooraj se jab koi chand na doobega.


मैं उड़ते हुए पंछियों को डराता हुआ कुचलता हुआ घास की कलगियाँ गिराता हुआ गर्दनें इन दरख्तों की,छुपता हुआ जिनके.!


Main udate hue panchhiyon ko darata hua kuchalata hua ghaas ki kalagiyan girata hua gardanen in darakhton ki,chhupata hua jinake..


वक्त की आँख पे पट्टी बांध के.
चोर सिपाही खेल रहे थे–
रात और दिन और चाँद और मैं
जाने कैसे इस गर्दिश में अटका पाँव,
दूर गिरा जा कर मैं जैसे,
रौशनियों के धक्के से
परछाईं जमीं पर गिरती है!


Vakt ki aankh pe pattee baandh ke. chor sipahi khel rahe the
raat aur din aur chand aur main
jane kaise is gardish mein ataka panv, door gira ja kar main jaise,
raushaniyon ke dhakke se
parachhaeen jameen par giratee hai..!


Tumhari furkat
Furkat Javed Akhtar Shayari

तुम्हारी फुर्कत में जो गुजरता है,
और फिर भी नहीं गुजरता,
मैं वक्त कैसे बयाँ करूँ , वक्त और क्या है?
कि वक्त बांगे जरस नहीं जो बता रहा है.!


Tumhari phurkat mein jo gujarata hai, aur phir bhi nahin gujarata, main vakt kaise bayan karoon , vakt aur kya hai? ki vakt bange jaras nahin jo bata raha hai..


धीरे धीरे वह पूरा गोला निगल के बाहर निकलती है रात, अपनी पीली सी जीभ खोले, गुलाम है वक्त गर्दिशों का,
कि जैसे उसका गुलाम मैं हूँ !!


Dheere dheere vah poora gola nigal ke baahar nikalati hai raat, apani peelee si jeebh khole, gulaam hai vakt gardishon ka, ki jaise usaka gulaam main hoon !!


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *