Barish Shayari | Rain Shayari | Barsaath Shayari in Hindi

Barish Shayari – Rain Shayari – Barsaath Shayari.Rain has often played a romancing factor in Barish shayari to entwine emptiness and contentment.सुना है बारिश में दुआ क़बूल होती है
अगर हो इज्जाजत तो मांग लू तुम्हे, सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ..!

☆☆☆☆☆☆☆☆☆

Gam Ki Barish Ne Bhi Tere Naksh Ko Dhoya Nahi,
Tu Ne Mujh Ko Kho Diya Par Me Ne Tujhe Khoya Nahi..


ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं, तू ने मुझ को खो दिया पर मैं ने तुझे खोया नहीं.


Suna Hai Barish Me Duwa Kabul Hoti Hai,
Agar Ho Ejajat To Mang Lu Tumhe..


Suna hai
Barish shayari

सुना है बारिश में दुआ क़बूल होती है
अगर हो इज्जाजत तो मांग लू तुम्हे !


Barsat Ki Bhigi Raton Me Fir Koi Suhani Yad Aai
Kuch Apna Zamana Yad Aaya Kuch Unki Jvani Yad Aae..


बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई,
कुछ अपना ज़माना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई..!


Sene Me Samundar Ke Lave Sa Sulagta Hun, me Teri Enayat Ki Barish Ko Trasta Hun..


सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ.!


Barsat Ka Badal To Devana Hai Kya Jane, Kis Rah Se Bachna Hai Kis Chat Ko Bhigona Hai..


बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है !!


Barasathi barishon se bas itana hi kahana hai ki, is tarah ka mausam mere andar bhi rahata hai.


बरसती बारिशों से बस इतना ही कहना है कि, इस तरह का मौसम मेरे अंदर भी रहता है!


Ashru se madhukan lutata aa yahan madhumas! ashru hi ki haat ban aatee karun barasaat.


अश्रु से मधुकण लुटाता आ यहाँ मधुमास!
अश्रु ही की हाट बन आती करुण बरसात!


Dhup sa rang hai aur khud hai vo chhanvo jaisa usaki payal mein barasat ka mausam chhanake..


Dhoop sa rang hai
Doop barish shayari

धुप सा रंग है और खुद है वो छाँवो जैसा
उसकी पायल में बरसात का मौसम छनके !


Saman ho phaagun ka ya baarish ho savan ki, mohabbat sulagati rahati hai in maheenon mein..


समां हो फागुन का या बारिश हो सावन की,
मोहब्बत सुलगती रहती है इन महीनों में!


Mujhe aaj bhi is baat ki ummeed hai ki kabhi to tum bhi in baarishon kee tarah achanak se aaogi aur meri zindagi khushiyon se bhar jaegee…


मुझे आज भी इस बात की उम्मीद है कि कभी तो तुम भी
इन बारिशों की तरह अचानक से आओगी
और मेरी ज़िंदगी खुशियों से भर जाएगी…


Seene mein samundar ke lave sa sulagata hoon main teri inayat ki baarish ko tarasata hoon..


सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ..!!


Barasat ka badal to deevana hai kya jane, kis raah se bachana hai kis chhat ko bhigona hai.


बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने,
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है !!


Abake barasat ki rut aur bhi bhadakeeli hai, jism se aag nikalati hai, qaba geeli hai..


अबके बरसात की रुत और भी भड़कीली है, जिस्म से आग निकलती है, क़बा गीली है !!


Kabhee baadal, kabhi baarish, kabhi ummeed ke jharane, tere ahasas ne chhoo kar mujhe kya-kya bana dala..


कभी बादल, कभी बारिश, कभी उम्मीद के झरने,
तेरे अहसास ने छू कर मुझे क्या-क्या बना डाला!


Toota chhappar mittee ka ghar, kaee raat main baarish ke karan so na saka, mainen koshish bahut kee yaron, par mujhe barasat se mohabbat ho na saka.


टूटा छप्पर मिट्टी का घर, कई रात मैं बारिश के कारण सो ना सका,
मैनें कोशिश बहुत की य़ारों, पर मुझे बरसात से मोहब्बत हो ना सका!


Apane ghar sang-e-malamat ki huee hai baarish begunaahi ki sanad ham jo dikhane nikale.


अपने घर संग-ए-मलामत की हुई है बारिश
बेगुनाही की सनद हम जो दिखाने निकले.!


Barish shayari For Love


Abr ke charon taraph badh laga dee jaye mupht barish mein nahane pe saja di jae.


अब्र के चारों तरफ बाढ लगा दी जाये
मुफ्त बारिश में नहाने पे सजा दी जाए।


Chaha tha ki bhigen teri barish mein ham magar apane hi sulagate hue khvabon mein jale hain.


Chaha tha ki

चाहा था कि भीगें तेरी बारिश में हम मगर
अपने ही सुलगते हुए ख्वाबों में जले हैं।


Ye jo barish hai na dil kee zameen par paani kee boondon ki jagah namak chhidakati hain, jise bhulane ki koshish mein lage hain ham sadiyose use dobara yaad dila deti hain.


ये जो बारिश है ना दिल की ज़मीन
पर पानी की बूंदों की जगह नमक छिड़कती हैं,
जिसे भुलाने की कोशिश में लगे हैं हम
सदियोसे उसे दोबारा याद दिला देती हैं।


Ai badal bade hee chup-chaap se lagate hain, naaraz khud se hee lagate hain, aaj to paanee kaheen se bhi naheen barasa, yah bhi kuchh-kuchh mere se lagate hain.


ऐ बादल बड़े ही चुप-चाप से लगते हैं,
नाराज़ ख़ुद से ही लगते हैं,
आज तो पानी कहीँ से भी नहीँ बरसा,
यह भी कुछ-कुछ मेरे से लगते हैं।


Arz kiya hai…har dafa ye baarish usaka paigaam lekar aatee hai aur mere banjar se dil ko poora hara bhara kar jaatee hai.


अर्ज़ किया है..!!
हर दफ़ा ये बारिश उसका पैग़ाम लेकर आती है और,
मेरे बंजर से दिल को पूरा हरा भरा कर जाती है।


Madamast boondon ko mainne girate dekha, jo baadal ka haal batate hain, tadapan mein apani ban ke ye baarish, bas vo dhara se milane aate hain.


मदमस्त बूँदों को मैंने गिरते देखा,
जो बादल का हाल बताते हैं,
तड़पन में अपनी बन के ये बारिश,
बस वो धरा से मिलने आते हैं।


Khud Bhi Rota Hai Aur Mujhe Bhi Rula Deta Hai,
Ye Barish Ka Mausam Uski Yaad Dila Deta Hai.


Khud bi rota hai
Barish shayari rothe

खुद भी रोता है और मुझे भी रुला देता है,
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला देता है।


Barish Ka Suhana Mausam Kuchh Yaad Dilata Hai,
Kisi Ke Saath Hone Ka Ehsaas Dilata Hai, Fiza Bhi Sard Hai Yaadein Bhi Taaza Hain,
Ye Mausam Kisi Ka Pyar Dil Mein Jagata Hai.


बारिश का सुहाना मौसम कुछ याद दिलाता है, किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है, फिजा भी सर्द है यादें भी ताजा हैं,
ये मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है।


Leave a Comment

Your email address will not be published.