Khamoshi Shayari | ख़ामोशी पर शायरी – Aapki Khamoshi Shayari In English/Hindi..

The best shayari for khamoshi and shayari on khamoshi. we have a best collection of khamoshi Shayari in hindi.मेरी खामोशी थी जो सब कुछ सह गयी,
उसकी यादें ही अब इस दिल में रह गयी..

✧✧✧✧✧✧✧✧✧✧✧✧

मेरी खामोशी थी जो सब कुछ सह गयी,
उसकी यादें ही अब इस दिल में रह गयी,
थी शायद उसकी भी कोई मज़बूरी,
जो मेरी जिंदगी की कहानी अधूरी ही रह गयी…!

Meri khamushi thi
Khamoshi Shayari

Meri khamoshi thee jo sab kuchh sah gayi, usaki yaden hee ab is dil mein rah gayi, thee shayad usaki bhi koi mazabooree, jo meri jindagi ki kahani adhoori hi rah gayi…


तड़प रहे है हम तुमसे,
एक अल्फाज के लिए,
तोड़ दो खामोशी हमें,
जिन्दा रखने के लिए।


Tadap Rahe Hai Ham
tumse Ek Alfaaz Ke Liye,
tod Do Khamoshi Hame
zinda Rakhne Ke Liye.


चुभता तो बहुत कुछ हैं
मुझे भी तीर की तरह,
लेकिन खामोश रहता हूँ
तेरी तस्वीर की तरह.


Chubhata to bahut kuchh hain
Mujhe bhee teer kee tarah,
Lekin khaamosh rahata hoon
Teree tasveer kee tarah.


रात हुई जब हर शाम के बाद,
तेरी याद आयी हर बात के बाद,
हमने खामोश रह कर भी महसूस किया,
तेरी आवाज़ आयी हर सांस के बाद…!


Raat hui jab har shaam ke baad, teri yaad aayi har baat ke baad, hamane khamosh rah kar bhi mahasoos kiya, teri aavaz aayi har sans ke baad…


ख़ामोशी को इख़्तियार कर लेना,
अपने दिल को थोड़ा बेकरार कर लेना,
जिन्दगी का असली दर्द लेना हो तो
बस किसी से बेपनाह प्यार कर लेना.!


Khamosh ko ikhtiyar kar lena,
Apane dil ko thoda bekarar kar lena,
Jindagi ka asali dard lena ho to
Bas kisi se bepanah pyaar kar lena.


Mujhe khamush raho

मुझे खामोश राहों में तेरा साथ चाहिए,
तन्हा है मेरा हाथ तेरा हाथ चाहिए,
जूनून-ए-इश्क को तेरी ही सौगात चाहिए,
मुझे जीने के लिए तेरा ही प्यार चाहिए…!


Mujhe khamosh raahon mein tera saath chahie, tanha hai mera haath tera hath chahie, joonoon-e-ishk ko teri hee saugat chahie, mujhe jeene ke lie tera hi pyaar chahie…


जब खामोश आँखों से बात होती है,
तो ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
तेरे ही ख्यालों में खोये रहते हैं,
न जाने कब दिन और कब रात होती है…


Jab khamosh ankhon se baat hoti hai, to aise hi mohabbat ki shuruat hoti hai, tere hi khyalon mein khoye rahate hain, na jane kab din aur kab raat hoti hai…!


ख्वाइश तो यही है कि तेरी बाँहों में पनाह मिल जाये, शमा खामोश हो जाये और शाम ढल जाये, मोहब्बत तू इतना करे कि इतिहास बन जाये, और तेरी बाँहों से हटने से पहले ये शाम हो जाये…!


Khvaish to yahi hai ki teri banhon mein panah mil jaye, shama khamosh ho jaye aur sham dhal jaye, mohabbat too itana kare ki itihas ban jaye, aur teri banhon se hatane se pahale ye shaam ho jaye..


खामोश बैठे हैं तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,
और ज़रा सा हंस लें तो लोग मुस्कुराने की वजह पूछ लेते हैं…!


Khamosh baithe hain to log kahate hain udaasi achchhi nahin, aur zara sa hans len to log muskurane ki vajah poochh lete hain…


क्यों करते हो मुझसे इतनी ख़ामोश मोहब्बत,
लोग समझते हैं इस बदनसीब का कोई नहीं..!


Kyun Karte Ho Mujhse Itni Khamosh Mohabbat,
Log Samjhte Hain Iss BadNaseeb Ka Koi Nahi.


Khamoshi Shayari { 2 लाइन ख़ामोशी शायरी }


कह रहा है दरिया से समंदर का सुकूत
जिस का जितना ज़र्फ़ है उतना वो खामोश है..!


Kah Rahaa Hai Dariya Se Samandar Ka Sukoot
Jis Ka Jitna Zarf Hai Utna Vo Khamosh Hai.


ज़ुल्मत कड़े में मेरे शब्-इ-ग़म का जोश है
एक शम्मा है दलील-इ-सहर सो खामोश है !


Zulmat Kade Mein Mere Shab-E-Gham Ka Josh Hai
Ek Shamma Hai Daleel-E-Sahar So Khamosh Hai.


Umru bhar
Umru Khamoshi Shayari

उम्र भर जलता रहा दिल और ख़ामोशी के साथ,
शम्मा को एक रात की सोज़-इ-दिली पे नाज़ था..


Umr Bhar Jaltaa Rahaa Dil Aur Khamoshi Ke Sath
Shamma Ko Ek Raat Ki Soz-E-Dili Pe Naaz Thaa..


ख़ामोशी खुद अपनी सदा हो ऐसा भी हो सकता है,
सन्नाटा ही गूँज रहा हो ऐसा भी हो सकता है


Khamoshi Khud Apni Sada Ho Aisa Bhi Ho Sakta Hai
Sannata Hi Goonj Raha Ho Aisa Bhi Ho Sakta Hai..


दिल की ख़ामोशी पर मत जाओ,
राख के नीचे आग दबी होती है..!


Dil kee Khamoshi par mat jao,
Raakh ke neeche Aag dabi hoti hai.


जब कोई बाहर से खामोश होता है,
तो उसके अंदर बहुत ज्यादा शोर होता हैं.!


Jab koi bahar se Khamosh hota hai,
To Usake andar bahut jyada
Shor hota hain.


Meri khamushi se

मेरी खामोशी से किसी को,
कोई फर्क नही पड़ता,
और शिकायत में दो लफ़्ज
कह दूं तो वो चुभ जाते हैं।


Meri Khamoshi Se Kisi Ko
Koi Fark Nahin Padta,
Aur Shikayat Me
Do Lafj Kah Du To
Wo Chubh Jate Hain.


वो कहती थी तेरे जिश का साया हु मै
सायद इसलिए अंधेरो में साथ छोड़ दिए उसने..!


Vo kahati thee tere jish ka saaya hu mai saayad isalie andhero mein saath chhod die usane.


फर्क बहुत है तेरी और मेरी तालीम में
तूने उस्तादों से सिखा और मैंने हालातो से
ख़ामोशी शायरी.!


Phark bahut hai teri aur meri taleem mein toone ustadon se sikha aur mainne halaato se khamoshi shayari..


काश हमारा भी कोई रश्के कमर होता
हम भी नजर मिलते हमे भी मजा आता
ख़ामोशी शायरी..!


Kaash hamara bhi koi rashke kamar hota ham bhee najar milate hame bhi maja aata khamoshi shayari.


खामोशीयाँ यूं ही बेवजह नहीं होतीं
कुछ दर्द भी आवाज़ छीन लिया करतें हैं.!


Khamosheeyaan yoon hee bevajah nahin hoteen kuchh dard bhi aavaz chheen liya karaten hain..


किताब सी शख्सियत दे ऐ मेरे खुदा
सब कुछ कह दूँ खामोश रहकर .!


Kitaab see shakhsiyat de ai mere khuda sab kuchh kah doon khamosh rahakar..


ख़ामोशियों की तह में छुपा लो उलझनें,
शोर से मुश्किलें आसान नहीं होतीं….


Khamoshiyon ki tah mein chhupa lo ulajhanen, shor se mushkilen asaan nahin hoteen…


Khamushi se jab

खामोशी से जब तुम भर जाओगे,
थोड़ा चीख लेना वरना मर जाओगे…!


Khamoshi se jab tum bhar jaoge, thoda cheekh lena varana mar jaoge…


अपने खिलाफ बाते में अक्सर ख़ामोशी से सुनता हूं,
जवाब देने का काम मैंने वक़्त को दे रखा है


Apane khilaph baate mein aksar khaamoshi se sunata hoon javaab dene ka kaam mainne vaqt ko de rakha hai..


क्यों करते हो मुझसे इतनी ख़ामोश मोहब्बत,
लोग समजते है इस बदनसीब का कोई नहीं.!


Kyon karate ho mujhase itani khamosh mohabbat log samajate hai is badanaseeb ka koi nahin..


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *