Intezaar Shayari {Best & Latest} in Hindi – इंतज़ार शायरी

Intezaar Shayari have best collection in english and hindi Shayari, Top Intezaar Shayari, Latest Intezaar Shayari, Best Intezaar Shayari in Hindi font, Hindi Shayari on Waiting of favourite.

◌⑅♡⋆♡LOVE♡⋆♡⑅◌

Humne Ye Shaam Chirago Se Saja Rakhi Hai, apke Intezar Me Palke Bichha Rakhi Hain,
Hawa Takra Rahi Hai Shama Se Baar Baar, aur Humne Shart In Hawaon Se Laga Rakhi Hai.


Ham ne ye sham
Intezaar shayari

हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है,
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं,
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार,
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।


Kab Thhehrega Dard Ai Dil Kab Raat Basar Hogi,
Sunte The Ke Wo Aayenge Sunte The Sahar Hogi.


कब ठेहरेगा दर्द ऐ दिल कब रात बसर होगी,
सुनते थे के वो आयेंगे सुनते थे सहर होगी।


Wo Rukhsat Hui To Aankh Mila Kar Gayi, wo Kyun Gai Yeh Bata Kar Nahin Gayi, lagta Hai Bapis Abhi Laut Aayegi,
Wo Jaate Hue Chirag Bujha Kar Nahin Gayi..


वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।


Koyi Shaam Aati Hai Aapki Yaad Lekar,
Koyi Shaam Jati Hai Aapki Yaad Lekar,
Humein To Intezar Hai Uss Shaam Ka,
Jo Aaye Kabhi Aapko Apne Saath Lekar.


कोई शाम आती है आपकी याद लेकर,
कोई शाम जाती है आपकी याद लेकर,
हमें तो इंतज़ार है उस शाम का,
जो आये कभी आपको अपने साथ लेकर।


Zakhm itane gahre hain izhaar kya karein
Ham khud nishana ban gaye waar kya kare
Mar gaye ham magar khhuli rahi ye aankhein
Isse jyada unka intezaar kya kare.


Jakhm ithne

ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें
इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें.


Tere intezaar mein yah nazarein jhuki hain, tera deedar karne ki chaah jagi hai ajaun tera naam, na tera pata
Phir bhi na jane kyin is paagal dil mein, ek ajab si bechaini jagi hai.


तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं
तेरा दीदार करने की चाह जगी है
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है!


Tadap kar dekho kisi ki chahat mein, pata chalega intezaar kya hota hai, yun hi mil jata hai bina koi tadpe to, Kaise pata chalta ki pyar kya hota hai.


तड़प कर देखो किसी की चाहत में
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है!!


Tadpti hai aaj bhi ruh aadhi raat ko, nikal padte hain aankh se aansoo aadhi raat ko
Intezaar mein tere varshon beet gaye sanam mere
Dil ko hai aas aayegi tu aadhi raat ko…


तड़पती है आज भी रूह आधी रात को
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को, इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को


Har pal tera intejaar rehta hai
har lamha tumse hi pyaar rehta hai, tum bin dhadkane ruk si jaati hai, dil me dhadkan banke tu hi rehta hai.


Har pal tera intezar
intezar shayari

हर पल तेरा इंतज़ार रहता है,
हर लम्हा तुमसे ही प्यार रहता है,
तुम बिन धडकनें रुक सी जाती हैं,
दिल में धड़कन बनके तू ही रहता है।


Aksar khushi se teri taraf dekha ,
tere baad kisi ki taraf nahi dekha
soch kark e tumhara intejaar laajmi hai ,
tamaam umr ghadi ki taraf nahi dekha.


अक्सर ख़ुशी से तेरी तरफ देखा,
तेरे बाद किसी की तरफ नहीं देखा,
सोच कर कि तुम्हारा इंतजार लाजमी है,
तमाम उम्र घड़ी की तरफ नहीं देखा।


Tum bhulaye jamane gujar gaye
jahar khaaye jamane gujar gaye ,
wapas aaja tere intejaar me ,
armaan banaaye jamane gujar gaye..


तुम्हे भुलाए ज़माने गुजर गए,
ज़हर खाए ज़माने गुजर गए,
वापस आजा तेरे इंतजार में,
अरमान बनाए ज़माने गुजर गए।


Intezaar Shayari – 2 line shayari


Kin labzo me bayaan karu apne intejaar ka
bezubaan hai ishq mera khaamoshi me bhi dhundhata hai.


किन लफ्जों में बयान करू अपने इंतज़ार का, बेजुबां है इश्क़ मेरा ख़ामोशी में भी ढूंढता है!


Tum na aoge hamen maloom tha is sham bhi, intazar tumhara magar kuchh soch kar karate rahe.


Tum na avoge
Intezar

तुम न आओगे हमें मालूम था इस शाम भी,
इंतज़ार तुम्हारा मगर कुछ सोच कर करते रहे।


Anhko ne jarre jarre par aksh lutaye hain
pata nahi kahan chupa hai mera pardanasheen.


आँखों ने जर्रे-जर्रे पर अक्स लुटाये हैं,
पता नहीं कहाँ छुपा है मेरा पर्दानशीं ।


Aankhe rahengi shamo shehar intejar me tere,
aj unko saunp denge tera intejar hum.


आँखें रहेंगीं शामों शहर इंतजार में तेरे,
आज उनको सौंप देंगे तेरा इंतज़ार हम ।


Adatan tumne kiye hai wade
adatan hame bhi etbar kiya
raaho me har bar ruk kar
hamne tera hi intejar kiya..


आदतन तुमने किये है वादे,
आदतन हमने भी ऐतबार किया,
राहों में हर बार रुककर,
हमने तेरा ही इंतजार किया।


Teri mohabbat par mera haq to nahi, par akhiri saans tak tera intejar rahega…


तेरी मोहब्बत पर मेरा हक तो नहीं
पर आखिरी साँस तक तेरा इंतजार रहेगा !


Ankhen bhi palakon se saval karati hain, har vaqt tujhe hee yad karati hain, jab tak na kar len deedar tera , vo tera hi intazaar karati hain.


आँखें भी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त तुझे ही याद करती हैं,
जब तक ना कर लें दीदार तेरा
वो तेरा ही इंतज़ार करती हैं।


din ki mehfile gayi raaton ke jaagte hue
chala gaya mere khushiyon ke lutaate hue.


दिन की महफिलें गईं रातों के जगते हुए
चला गया मेरे खुशियों के शहर को लुटते हुए ।


mere dil ki ummido ka hausla dekhiye, intejaar unka hai ehsaas jinko nahi…


Mere dil ki ummido

मेरे दिल की उम्मीदों का हौसला देखिये
इंतज़ार उनका है एहसास जिनको नहीं ।


Aadhi se jyada gam kaat chuka hu, bat to aa jao ye raat badi hai..


आधी से ज्यादा ग़म काट चुका हूँ,
अब तो आ जाओ ये रात बड़ी है।


Leave a Comment

Your email address will not be published.