Maa Shayari ¦ माँ शायरी | Mother Shayari, Status, Quotes, Love you maa.

Maa shayari in hindi, Images, Pics, WhatsApp, Facebook, Famous, माँ शायरी. Collection of whatsapp status, best shayari, status and quotes. Only parents love true love in the world, दुनिया मे सच्चा इश्क़ तो केवल मा- बाप ही करते है..

◌⑅♡⋆♡LOVE YOU MAA♡⋆♡⑅◌

Maa teri yaad
Best Maa Shayari

माँ तेरी याद सताती है मेरे पास आ जाओ
थक गया हूँ मुझे अपने आँचल में सुलाओ!


Maa Teri Yaad Satati Hai Mere Paas Aa Jaao,
Thak Gaya Hoon Mujhe Apne Aanchal Mein Sulaao.


हर रिश्ते में मिलावट देखी कच्चे रंगों की सजावट देखी,
लेकिन सालो साल देखा है माँ को,
उसके चेहरे पर न थकावट देखी
ना ममता में मिलावट देखी.!


Har rishte mein milavat dekhi kachche rangon kee sajavat dekhi lekin saalo saal dekha hai, maan ko usake chehare par na thakavat dekhi na mamata mein milavat dekhi.


मां से ही तो है घर में रौनक,
अपना मां ही ताज है,
जिसने दी है हरदम खुशियां,
उससे तू क्यों नाराज है।


Maan se hi to hai ghar mein raunak, apana maan hi taaj hai, jisane dee hai haradam khushiyan, usase too kyon naraaj hai..


कर्ज़ जिसका कभी नहीं चुकाया जाता है,
सबसे पहले उसका ही दर्जा आता है,
अपने बच्चे की हर समय फिक्र जिसे,
वह हम सबकी अपनी प्यारी माता है..!


Karz jisaka kabhee nahin chukaya jaata hai, sabase pahale usaka hi darja aata hai, apane bachche ki har samay phikr jise, vah ham sabaki apani pyari maata hai..


Na jane kya tha

ना जाने क्या था “माँ” की उस “फूँक” में,
हर “चोट” ठीक हो जाया करती थी,
“माँ” की हल्की सी एक “चपत” ज़मीन को,
सारा “दर्द” ही “गायब” कर दिया करती थी.!


Na jaane kya tha “maan” kee us “phoonk” mein. har “chot” theek ho jaaya karati thee. “maan” kee halkee see ek “chapat” zameen ko. saara “dard” hee “gayab” kar diya karati thi.


अपनी ममता के आंचल मे सम्भाल रखा है,
इस कीमती दौलत से कर मालामाल रखा है, जब वक्त था उस बुढ़ी मां की सेवा करने का, ऐसे वक्त में तूने मां को घर से निकाल रखा है।


Apani mamata ke aanchal me sambhaal rakha hai, is keemati daulat se kar maalamal rakha hai, jab vakt tha us budhi maan kee seva karane ka, aise vakt mein toone maan ko ghar se nikaal rakha hai.


ठोकर न मार मुझे पत्थर नहीं हूँ मैं, हैरत से न देख मुझे मंज़र नहीं हूँ मैं,
तेरी नज़रों में मेरी क़दर कुछ भी नहीं, मेरी माँ से पूछ उसके लिए क्या नहीं हूँ मैं।


Thokar na maar mujhe patthar nahin hoon main, hairat se na dekh mujhe manzar nahin hoon main, teri nazaron mein meri qadar kuchh bhi nahin, meri maan se poochh usake lie kya nahin hoon main.


नहीं चाहिए कोई चंदा ना सूरज,
बस हँसती रहे ममता की मूरत,
सफ़र में नजा़रे बहुत देखें हमने,
मगर माँ मेरी है सबसे खूबसूरत।


Nahin chahie koyi chanda na sooraj, bas hansati rahe mamata kee moorat, safar mein najare bahut dekhen hamane, magar maan meri hai sabase khoobasoorat.


Koi gam ka saya
Maa Shayari in Hindi

कोई गम का साया जब मुझ पर आया,
मेरी माँ ने हर गम से मुझको बचाया,
वो भूखी रही है हर दोपहर तक,
अपने हिस्से का खाना भी मुझे खिलाया।


Koyi gam ka saaya jab mujh par aaya, meri maan ne har gam se mujhako bachaya, vo bhookhi rahi hai har dopahar tak, apane hisse ka khaana bhi mujhe khilaya..


बड़े प्यार से माँ ने जीवन संवारा,
मेरे गम में खुद की खुशियों को गंवारा,
ये उसकी बदौलत शोहरतें मिल रही है,
वरना बन जाते हम भी नालायक आवारा।


Bade pyar se maan ne jeevan sanvara, mere gam mein khud ki khushiyon ko ganvara, ye usaki badaulat shoharaten mil rahi hai, varana ban jaate ham bhi naalayak aavara.


कमा के इतनी दौलत भी मैं
अपनी “माँ” को दे ना पाया,
के जितने सिक्कों से “माँ”
मेरी नज़र उतारा करती थी…”!!


Kama ke itani daulat bhee main apani “maan” ko de na paya, ke jitane sikkon se “maan” meri nazar utaara karati thi..


Maa Shayari in Hindi.


कोई फैसला नहीं करता मां के बिना,
काम नहीं बनता मां की दुआ के बिना,
मां जब भी मेरे माथे को चूम लेती है,
हां मैं ठीक हो जाता हूं दवा के बिना।


Koi phaisala nahin karata maan ke bina, kaam nahin banata maan kee dua ke bina, maan jab bhi mere maathe ko choom letee hai, haan main theek ho jaata hoon dava ke bina.


Jab tak ghar na

जब तक घर न पहुंचूं वो तब तक जगती है,
मां की सुरत बिल्कुल खुदा से मिलती है,
मैं दुनिया की बुरी नजर से डरता नहीं कभी,
मेरे साथ में मेरी मां की दुआ निकलती है।


Jab tak ghar na pahunchoon vo tab tak jagati hai, maan ki surat bilkul khuda se milati hai, main duniya ki buri najar se darata nahin kabhi, mere saath mein meri maan kee dua nikalati hai.


करो दिलसे सजदा तो इबादत बनेगी,
मॉ बाप की सेवा अमानत बनेगी…,
खुलेगा जब तुम्हारे गुनाहों का खाता,
तो मॉ बाप की सेवा जमानत बनेगी.!!


Karo dilase sajada to ibaadat banegi, mo baap ki seva amanat banegi, khulega jab tumhare gunaahon ka khaata, to mo baap kee seva jamanat banegi.


माँ तेरी अच्छाई का बयां शब्दों के माध्यम से कर पाना सरल नहीं है,
हां माँ अपनी खुशी न्योछावर कर
सदा बच्चों को खुशी,
प्रदान की है तुमने।


Maan teri achchhai ka bayaan shabdon ke madhyam se kar paana saral nahin hai, haan maan apani khushi nyochhaavar kar sada bachchon ko khushi pradaan ki hai tumane.


माँ ख़ुद तू सहती है असीमित पीड़ा पर,
अपनी संतान को तनिक भी, आभास न होने देती है तू पीड़ा, सच में माँ तेरी
अच्छाई तेरी उदारता का व्याख्यान
शब्दों में कर पाना सरल नहीं।


Maan khud too sahati hai aseemit peeda par, apani santaan ko tanik bhi aabhas na hone dethi hai too peeda, sach mein maan teri achchhai teri udarata ka vyakhyan shabdon mein kar paana saral nahin।


2 लाइन माँ शायरी / Maa Shayari


यूं ही नहीं गूंजती किल्कारीयां‬ घर आँगन‬ के हर कोने में,
जान ‎हथेली‬ पर रखनी‪ पड़ती है ‘माँ’ को ‘‪माँ‬’ होने में..!


Yun Hi Nahi Gunjti Kilkariyan Ghar Aangan Ke Har Kone Mein,
Jaan Hatheli Par Rakhni Padti Hai Maa Ko Maa Hone Mein.


ungliyo fer kar
Maa Shayari for mother

उँगलियाँ फेर कर बालों में मेरे
एक बार फिर से बचपन की लोरियाँ सुनाओ.!


Ungliyan Pher Kar Baalon Mein Mere,
Ek Baar Phir Se Bachpan Ki Loriyan Sunaaon..


गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने
भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी.!


Gin Leti Hai Din Bagair Mere Gujaar Hai Kitane,
Bhala Kaise Kah Doon Ki Maa Anpadh Hai Meri.


तकलीफ मुझे होती हे और वो पुरी रात नहीं सोती,
कैसे बताऊँ ऊसके बारे मे, माँ शब्द मे बयान नहीं होती..!!


Takaleeph mujhe hoti he aur vo puri raat nahin sothi, kaise bataoon oosake baare me, maan shabd me bayan nahin hothi..


कोई दुआ असर नहीं करती, जब तक वो हम पर नजर नहीं करती,
हम उसकी खबर रखे न रखे, वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।


Koi dua asar nahin karatee, jab tak vo ham par najar nahin karathi, ham usaki khabar rakhe na rakhe, vo kabhi hamen bekhabar nahin karathi.


उसकी होठो पे कभी बद्दुआ नही होती, बस एक माँ है जो कभी खफा नही होती, मदर दे शायरी…!


Usaki hotho pe kabhi baddua nahi hothi, bas ek maan hai jo kabhi khapha nahi hoti , madar de shayari.


जब कागज़ पर लिखा मैंने माँ का नाम
कलम अदब से बोल उठी.. ‘हो गए चारों धाम !!


Jab kagaz par likha mainne maan ka naam kalam adab se bol uthi,, ho gai chaaron dhaam..


Pahli mohabbat ki
Mohabbat Maa Shayari

पहली मोहब्बत की बात भले ही करता हो, जमाना, मगर पहला प्यार तो माँ से सुरु होता है !


Pahali mohabbat ki baat bhale hi karata ho jamana, magar pahala pyaar to maan se suru hota hai.


जिसके होने से मैं खुद को मुक्कम्मल मानता हूँ,
में खुदा से पहले मेरी माँ को जानता हूँ।


Jiske Hone Se Main Khud Ko Mukammal Maanta Hoon,
Mein Khuda Se Pahle Meri Maa Ko Jaanta Hoon..


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *