मौत शायरी | Maut Shayari in Hindi

Maut shayari in hindi looking for sad status on maut hindi shayari.मिट्टी मेरी कब्र से उठा रहा है कोई, मरने के बाद भी याद आ रहा है!!

━━━━━━━✧✧━━━━━━━

Maut jism ki
Maut shayari

मौत जिस्म की रिवायत है,
रूह को बस लिबास बदलना है.


वो ढूंढ रहे थे हमें शायद उन्हें हमारी तलाश थी, पर जहाँ वो खड़े थे वही दफ़न हमारी लाश थी.


तेरी ही जुस्तजू में जी लिए इक ज़िंदगी हम,
गले मुझको लगाकर खत्म साँसों का सफ़र कर दे.


ढूंढोगे कहाँ मुझको, मेरा पता लेते जाओ,
एक कब्र नई होगी एक जलता दिया होगा.


तू बदनाम ना हो इसलिए जी रहा हूँ मैं,
वरना मरने का इरादा तो रोज होता है..


साँसों के सिलसिले को न दो ज़िंदगी का नाम, जीने के बावजूद भी मर जाते हैं कुछ लोग.


मौत-ओ-हस्ती की कशमकश में कटी उम्र तमाम, गम ने जीने न दिया शौक ने मरने न दिया।


तेरी ही जुस्तजू में जी लिया इक ज़िंदगी मैंने, गले मुझको लगाकर खत्म साँसों का सफ़र कर दे।


Ab maut se kaha
Maut shayari

अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले, वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे ।


तुम समझते हो कि जीने की तलब है मुझको, मैं तो इस आस में ज़िंदा हूँ कि मरना कब है।


कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे, ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे, यूं घुट घुट के जीने से तो मौत बेहतर है, मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे।


वादे भी उसने क्या खूब निभाए हैं, ज़ख्म और दर्द तोहफे में भिजवाए हैं, इस से बढ़कर वफ़ा कि मिसाल क्या होगी, मौत से पहले कफ़न का सामान ले आये हैं।


मिट्टी मेरी कब्र से उठा रहा है कोई, मरने के बाद भी याद आ रहा है कोई, कुछ पल की मोहलत और दे दे ऐ खुदा, उदास मेरी कब्र से जा रहा है कोई।


दिल तो हर पल टूटा हैं पर हम नहीं
मौत मुझे ले गयी मेरे प्यार को नहीं..


छोड़ दिया मुझको आज मेरी मौत ने यह कह कर
हो जाओ जब ज़िंदा, तो ख़बर कर देना!


मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बत की कसम
अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार में.


कुछ पल की मोहलत और दे दे ऐ खुदा,
उदास मेरी कब्र से जा रहा है कोई।


ऐ ख़ुदा ! तू कभी इश्क़ न करना बेमौत मारा जाएगा, हम तो मर कर भी तेरे पास आते हैं पर तू कहाँ जाएगा!


Jara chup chap
Maut shayari

जरा चुपचाप तो बैठो कि दम आराम से निकले, इधर हम हिचकी लेते हैं उधर तुम रोने लगते हो।


मौत जब भी तुझे आवाज़ दे गी तुझे जाना पड़ेगा
दुनिया में आये हैं तो एक दिन जाना भी पड़ेगा..!


बड़ी अजीब चीज है ये मौत भी
कभी कभी उस जगह भी मिल जाती है
जहाँ लोग जिंदगी की दुआ मांगने जाया करते है..


वो धुंद रहे थे हमे शायद उन्हें हमारी तलाश थी, पर जहाँ वो खड़े थे वही दफ़न हमारी लाश थी. !!


Maut shayari in Hindi fonts..

तसव्वर में न जाने कातिबे-तकदीर क्या था
मेरा अंजाम लिखा है मेरे आगाज से पहले!


ज़िन्दगी ज़ख्मो से भरी है वक्त को मरहम बनाना सीख लो
हारना तो मौत के सामने है फ़िलहाल ज़िन्दगी से जीना सीख लो!


तेरी ही जुस्तजू में जी लिया इक ज़िंदगी मैंने,
गले मुझको लगाकर खत्म साँसों का सफ़र कर दे!!


आज कल इंसान की कोई कदर नहीं
मौत भी आ जाये तो उस पर रोने वाला कोई नहीं…


यूँ दिल से दिल को जुड़ा न कीजिएगाज़रा सोच समझ कर फैसला कीजियेगागर जी सकते है आप मेरे बिनटो बेशक मेरी मौत की दुआ कीजियेगा..


रुखसत हुए तेरी गली से हम आज कुछ इस कदर,
लोगो के मुह पे राम नाम था और मेरे दिल में बस तेरा नाम!!


आता है कौन कौन तेरे गम को बांटने
ग़ालिब तो अपनी मौत की अफवाह उड़ा के देख..!


Maut ko to

मौत को तो यूँ ही बदनाम करते हैं लोग,
तकलीफ तो साली ज़िन्दगी देती है!!


उम्र तमाम बहार की उम्मीद में गुजर गयी,
बहार आई है तो पैगाम मौत का लाई है!


पता नहीं पैसे के पीछे क्यों इतना भागते हैं
उन्हें पता नहीं मौत भी अपने जिंदगी के पीछे उसी तरह भागती हैं!


खुशी आपके लिए गम हमारे लिए,
जिंदगी आपके लिए मौत हमारे लिए..!


पैर तले इक हड्डी आई
उसके भी यही बयान थे,
चलने वाले संभल कर चलना
हम भी कभी इंसान थे।


मोहब्बत और मौत की पसन्द तो देखो यारो
एक को दिल चाहिए और दुसरे को धड़कन.


न उड़ाओ यूं ठोकरों से मेरी खाके कब्र ज़ालिम,
यही एक रह गई है मेरे प्यार की निशानी..


तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं हो कि बुला भी न सकूँ !!


मैं उस की आस में यूँ बैठा हूँ जैसे
किसी ला-इलाज को इंतेज़ार हो मौत का.


उससे बिछड़े तो मालूम हुआ की मौत भी कोई चीज़ है ‘फ़राज़’
ज़िन्दगी वो थी जो हम उसकी महफ़िल में गुज़ार आए !


Mitti mere khabr

मिट्टी मेरी कब्र से उठा रहा है कोई,
मरने के बाद भी याद आ रहा है कोई..


अगर है शौक़े सफ़र तो हमारे साथ चलो,
नहीं है मौत का डर तो हमारे साथ चलो !!


ए मौत। उन्हें भुलाये ज़माने गुज़र गए,
आ जा के ज़हर खाये जमाने गुज़र गए।


एक दिन निकला सैर को
मेरे दिल में कुछ अरमान थे,
एक तरफ थी झाड़ियाँ,
एक तरफ श्मशान थे!


तुम साथ हो जब अपने दुनिया को दिखा देंगे,
हम मौत को जीने के अंदाज़ सिखा देंगे !!


Uski yadone

उसकी यादों ने मुझे पागल बना रखा है,
कहीं मर ना जाऊं कफ़न सिला रखा है!


मेरा दिल निकाल लेना दफ़नाने से पहले,
वो ना दब जाए जिसे दिल मे बसा रखा है।


हमारे मुस्कुराने की वजह तुम हो,हमारी ज़िन्दगी का मतलब तुम हो,अगर चोर साथ ज़िन्दगी मैं हमारा,तो समझ लेना क हमारी मौत की वजह भी तुम हो..


मैं किसी को क्या इल्ज़ाम दूँ अपनी मौत का दोस्तो, यहाँ तो सताने वाले भी अपने थे और दफ़नाने वाले भी अपने..!


हँसी आपके लिए रोना हमारे लिए,
सबकुछ आपके लिए आप हमारे लिए।


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *