Shayari On Eyes ¦ Aankhein Pe Shayari – आँखों पर शायरी.

Read Best Shayari on eyes Beautiful Eyes of Girlfriend or boyfriend, Aankhein Shayari in Hindi, Nigah Shayari, Najar Shayari, new Romantic Shayari on Eyes..आँखों पर शायरी, स्टेटस..


जो सूरुर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में,
बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में।

Jo surur hai
Best shayari on eyes

Jo Soorur Hai Teri Aankhon Mein Vo Baat Kahaan Maikhane Mein,
Bas Tu Mil Jaye To Phir Kya Rakha Hai Zamane Mein.


मेरी आंखों के आंसू कह रहे मुझसे,
अब दर्द इतना है कि सहा नहीं जाता,
न रोक पलको से खुल कर छलकने दे,
अब यूं इन आंखों में रहा नहीं जाता।


Meri ankhon ke ansoo kah rahe mujhase, ab dard itana hai ki saha nahin jaata, na rok palako se khul kar chhalakane de, ab yoon in ankhon mein raha nahin jaata.


दिल को संभाल के रखा था हमने ज़माने के नजरानों से.
कम्बख्त आँखों ने तुम्हारी हमे आशिक़ बना दिया.!


Dil ko sambhal ke rakha tha humne zamane ke nazrano se,
Kambakht Aankhon ne tumhari hume ashiq bana diya.


एक नजर देख ले हमे जीने की इजाजत दे दे, ए रुठने वाले वो पहली सी मोहब्बत दे दे..!


Ek Najar Dekh Le Hume Jeene Ki Izazat De De,
Ae Ruthne Wale… Wo Pehli Si Mohabbat De De.


In ankho me
Dil ke shayari

इन आँखों में रहा दिल में उतरकर नहीं देखा, कश्ती के मुसाफ़िर ने समन्दर नहीं देखा, पत्थर कहता है मुझे मेरा चाहनेवाला,
मैं मोम हूँ उसने मुझे छूकर नहीं देखा.!


In ankhon mein raha dil mein utarakar nahin dekha, kashti ke musafir ne samandar nahin dekha, patthar kahata hai mujhe mera chahanevala, main mom hoon usane mujhe chhookar nahin dekha.


बंद करके जुबां हम प्यार को छुपा बैठे थे.
पर आंखों की जुबां ने सब कह दिया.!


Band karke zubaan hum pyar ko chhupa baithe the,
Par aakhon ki zuban ne sab keh diya..


इन आँखों की मस्ती के मस्ताने हज़ारों हैं मस्ताने हज़ारों हैं, इक तुम ही नहीं तन्हाँ उल्फ़त में मेरी रुसवा, इस शहर में तुम जैसे दीवाने हज़ारों हैं..!


In ankhon ki masthi ke mastane hazaron hain mastane hazaron hain, ik tum hi nahin tanhan ulfat mein meri rusava, is shahar mein tum jaise deevane hazaron hain.


इकरार में शब्दों की एहमियत नहीं होती,
दिल के जज़्बात की आवाज़ नहीं होती,
आँखें बयान कर देती है दिल की दास्तान,
मोहब्बत लफ्जों की मोहताज नहीं होती.!!


Ikaraar mein shabdon ki ehamiyat nahin hotee, dil ke jazbat ki avaaz nahin hothi, ankhen bayan kar dethi hai dil ki dastaan, mohabbat laphjon ki mohataj nahin hothi.


वो कहने लगी, नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों के बीच
मैंने मुस्करा के कहा, तेरी आँखों से ही शुरू हुआ था, इश्क हज़ारों के बीच..!


Wo Khane Lagi , Nakab Me Bhi Pahchan Lete Ho Hajaron Ke Bich? Mene Muskra Ke Kha, Teri Ankho Se Hi Suru Huwa Tha Ishk Hajaron Ke Bich.


Tere ankho ke
Tere aankho ka shayari on eyes

तेरी आँखों का कुछ क़ुसूर नहीं
हाँ मुझि को ख़राब होना था !


Teri ankhon ka kuchh qusur nahin,
haan mujhi ko kharab hona tha.


न होते शायर हम, न ही आशिक होते,
अगर तुम्हारी आँखों के पैमाने हमने न पिए होते.!


Na hote shaayar hum, na hi aashiq hote,
Agar tumhari aankhon ke paimaane humne na piye hote.


दिल कर रहा है आज फिर वो बातें सुन ने का, जो वो अक्सर आँखों से कह जाते हैं.!


Dil kar raha hai aaj phir wo baatein sun ne ka,
Jo wo aksar aankhon se keh jaate hain..


उस की आँखों को ग़ौर से देखो,
मंदिरों में चराग़ जलते हैं..!


Us ki ankhon ko ghaur se dekho,
mandiron men charagh jalte hain


‘मीर’ उन नीम-बाज़ आँखों में,
सारी मस्ती शराब की सी है.!


Meer un neem-baaz ankhon mein saari masthi sharab ki see hai..


Shayari On Eyes In Hindi


Ankhe me jo
Aankho shayari on eyes

आँखों में जो बात हो गई है,
इक शरह-ए-हयात हो गई है.!


Aankhon mein jo baat ho gayi hai ik sharah-e-hayaat ho gayi hai..


जब भी देखता हूँ मुझसे हरबार नज़रें चुरा लेती है,
मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी।


Jab bhi dekhata hoon mujhase harabar nazaren chura leti hai, mainne kagaz par bhi bana ke dekhi hain ankhen usaki.


उसने आँखों से आँखें जब मिला दी,
हमारी ज़िन्दगी झूम कर मुस्कुरा दी,
जुबान से तो हम कुछ न कह सके,
पर आँखों ने दिल की कहानी सुना दी।


Usane aankhon se aankhen jab mila dee, hamari zindagi jhoom kar muskura dee, jubaan se to ham kuchh na kah sake, par ankhon ne dil ki kahani suna dee.


उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे.!


Uthati nahin hai aankh kisi aur ki taraph, paaband kar gayi hai kisi ki najar mujhe, eemaan ki to ye hai ki eemaan ab kahan, kaafir bana gai teri kaafir-nazar mujhe.


Na puche meri
Beautiful shayari on eyes

न पूछो मेरी आँखों से, कि इनमे क्यों नमी सी है,
है सब कुछ मेरे पास ज़िन्दगी, पर फिर भी एक कमी सी है.!


Na pucho meri aankhon se, ki inme kyu nami si hai,
Hai sab kuch mere paas Zindagi, par phir bhi ek kami si hai.


आँखों में अब तो आँसू भी नही आते,
हर ज़ख़्म नासूर सा लगता है,
मोहब्बत ऐसे मोड़ पर लाई है के,
अब अपना नाम भी बेगाना सा लगता है।


Sankhon mein ab to aansoo bhi nahi aate, har zakhm naasoor sa lagata hai, mohabbat aise mod par layi hai ke.. ab apana naam bhee begana sa lagata hai.


आँखों में मेरी कई लोगो ने पड़ा है,
पिंजरे के पंछी सा दिल बेबस खड़ा है,
खुले आसमान में उड़ने को बेकरार है,
किसी और का नहीं मुझे सिर्फ तेरा ही इंतेज़ार है।


Aankhon mein meri kayi logo ne pada hai, pinjare ke panchhi sa dil bebas khada hai, khule aasaman mein udane ko bekarar hai, kisee aur ka nahin mujhe sirph tera hi intezar hai.


उदास आँखों में अपनी करार देखा है,
पहली बार उसे बेक़रार देखा है,
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की,
उसकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है।


Udaas ankhon mein apani karaar dekha hai, pahali baar use beqarar dekha hai, jise khabar na hothi thi mere aane jaane ki, usaki aankhon mein ab intazar dekha hai.


Na hotha pyar
Na hotha pyar shayari on eyes

न होता प्यार तो अच्छा होता, हम जी लेते तनहा होके,!
अब टूटे दिल को क्या समझाएं , क्यों ज़िन्दगी थमी सी है.!!


Na hota pyaar to achha hota, hum jee lete tanha hoke,
Ab toote dil ko kya samjaaye, kyu Zindagi thami si hai.


Leave a Comment

Your email address will not be published.