Love Shayari – Mohabbat Shayari ¦ मोहब्बत शायरी.

Beautiful love shayari and mohabbat shayari this love verses will be a life-gift for you.आज हम आप के लिए कुछ खास लाये है Pyar Mohabbat Ki Shayari शायरी मोहब्बत शायरी, Mohabbat Shayari , Mohabbat Bhari Shayari For Husband-Wife, Latest Two Line Mohobbat Status In Hindi..

◌⑅♡⋆♡LOVE~MOHABBAT♡⋆♡⑅◌

उसने मोहब्बत, मोहब्बत से ज्यादा की थी,
हम ने मोहब्बत उससे भी ज्यादा की थी,
अब वो किसे कहेंगे मोहब्बत की इन्तेहाँ,
हमने शुरुआत ही इन्तेहाँ से ज्यादा की थी।

Usne mohabbat
Best Mohabbat Shayari

Usne Mohabbat, Mohabbat Se Jyada Ki Thi,
Humne Mohabbat Usse Bhi Jyada Ki Thi,
Ab Wo Kise Kahenge Mohabbat Ki Intehaan,
Humne Shuruat Hi Intehaan Se Jyada Ki Thi.


रोज तेरा इंतजार होता है,
रोज ये दिल बेकरार होता है,
काश तुम समझ सकते की,
चुप रहने वालो को भी,
किसी से प्यार होता है..!


Roj tera intajar hota hai, roj ye dil bekarar hota hai, kaash tum samajh sakate ki, chup rahane vaalo ko bhi, kisi se pyaar hota hai..


नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,
की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,
मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।


Nazre Karam Mujh Par Itna Na Kar, ki Teri Mohabbat Ke Liye Baagi Ho Jaaun, mujhe Itna Na Pila Ishq-E-Jaam Ki,
Main Ishq Ke Jahar Ka Aadi Ho Jaaun..


ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा, मैं खुद तन्हा रहा मगर दिल को तन्हा नहीं रखा, तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज़ रखे हैं, तुम्हारी नफरतों की पीर को ज़िंदा नहीं रखा।


Ye mat kahana ki teri yaad se rishta nahin rakha, main khud tanha raha magar dil ko tanha nahin rakha, tumhari chahaton ke phool to mahaphooz rakhe hain, tumhari napharaton kI peer ko zinda nahin rakha.


तुम्हें देखते हैं तो दिल में ऐसी दस्तक होती है, जैसे सागर में लहरों की हलचल होती है,
सोचा था कभी तुम्हें बता ना पाएंगे,
इन आँखों में तुम्हारी सूरत हर पल होती है।


Tumhe dekhte hain to dil mein aisi dastak hoti hai,
Jaise saagar mein lehron ki halchal hoti hai,
Socha tha kabhi tumhe bataa na payenge, In aankhon mein tumhaari soorat har pal hoti hai…


Mohabbat ka imtehan
Mohabbat ka imtehan Mohabbat Shayari

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं!
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं!
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में!
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं!


Muhabbat ka imtihan asaan nahin! pyaar sirph paane ka, naam nahin! muddaten beet jaati hain kisee ke intazar mein! ye sirph pal-do-pal ka kaam nahin!


ना सवाल बनके मिला करो,
ना जवाब बनके मिला करो,
मेरी जिंदगी मेरा ख्वाब है,
मुझे ख्वाब बनके मिला करो..!


Na savaal banake mila karo, na javab banake mila karo, meri jindagi mera khvaab hai, mujhe khvab banake mila karo.


दिल में छुपा रखी है मोहब्बत तुम्हारी ख़जाने की तरह, बताते नहीं किसी को भी, कि कहीं शोर ना मच जाए.!


Dil mein chhupa rakhi hai mohabbat tumhari khajane ki tarah,
Batate nahi kisi ko bhi ki kahin shor na mach jaye..


खुदा करे कि एक ऐसा दिन आ जाए, हम तुम्हारी बाहों में खो जाएँ,
सिर्फ हम हो और तुम हो, और समय वही सो जाए।


Khuda kare ki ek aisa din aa jaye, hum tumhari baahon mein kho jayein, Sirf hum ho aur tum ho aur samay wahi so jaaye…


वो वक़्त वो लम्हे कुछ अजीब होंगे,
दुनिया में हम खुश नसीब होंगे,
दूर से जब इतना याद करते है आपको,
क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे!


Vo vaqt vo lamhe kuchh ajeeb honge, duniya mein ham khush naseeb honge, door se jab itana yaad karate hai apako, kya hoga jab aap hamaare kareeb honge..


Apna bankar

अपना बनाकर हमें अपनी बाहों में भर लो,
कभी ना हो जुदा ऐसा ये वादा कर लो,
बिखर जाएंगे तुमसे दूर होकर हम,
कल क्या हो किसे पता इसलिए आज चंद प्यार भरी बातें कर लो।


Apna banakar humein apni baahon mein bhar lo,
Kabhi naa ho juda aisa ye waada kar lo, Bikhar jayenge tumse door hokar hum,
Kal kya ho ye kise pata isliye aaj chand pyar bhari batein kar lo..


किसी को फूलों से मोहब्बत है
तो किसी को काँटों से मोहब्बत है,
हम तो बस उनसे मोहब्बत करते हैं
जिन्हे हमसे मोहब्बत है।


Kisi ko phoolon se mohabbat hai
To kisi ko kanton se mohabbat hai, Hum to bus unse mohabbat karte hain Jinhe humse mohabbat hai…


Mohabbat Shayari in Hindi


इश्क़ की बेताबियां होशियार हों,
अहल-ए-दिल पर ज़ब्त का इल्ज़ाम है.!


Ishq ki betaabiyan hoshiyar hon ahal-e-dil par zabt ka ilzam hai.


इश्क़ इल्ज़ाम लगाता था हवस पर क्या-क्या ये मुनाफ़िक़ भी तेरे वस्ल का भूखा निकला !


Ishq ilzam lagata tha havas par kya-kya ye munafiq bhi tere vasl ka bhookha nikala.


दिल वो दरिया है जिसे मौसम भी करता है तबाह किस तरह इल्ज़ाम धर दें हम किसी तैराक पर .!


Dil vo dariya hai jise mausam bhi karata hai tabah kis tarah ilzam dhar den ham kisi tairak par.


Bas yahi sochkar
Mohabbat Shayari safayi

बस यही सोचकर कोई सफाई नहीं दी हमने
कि इलज़ाम झूठे ही सही पर लगाये तो, तुमने हैं।


Bas yahi sochakar koee saphai nahin dee hamane ki ilazam, jhoothe hee sahi par lagaye to tumane hain.


Pyar Shayari Love


एक बार उलझना चाहते हैं तुम्हारे इश्क़ में, हम, बहुत कुछ सुलझाने के लिए।


Ek baar ulajhna chaahte hain tumhare ishq mein hum, bahut kuchh suljhane ke liye..


इल्ज़ाम एक ये भी उठा लेना चाहिए,
इस शहर-ए-बे-अमाँ को बचा लेना चाहिए.!


ilzaam ek ye bhi utha lena chahie is shahar-e-be-amaan ko bacha lena chahie.


कोशिश के बावजूद ये इल्ज़ाम रह गया !
हर काम में हमेशा कोई काम रह गया !!


Koshish ke bavajood ye ilzam rah gaya har kaam mein hamesha koyi kaam rah gaya.


महफ़िल से उठ जाने वालो तुम लोगों पर क्या इल्ज़ाम,
तुम आबाद घरों के वासी मैं आवारा और बदनाम..!


Mahafil se uth jaane vaalo tum logon par kya ilzam tum aabad gharon ke vaasi main aavara aur badanam.


अपनी मुस्कुराहट को जरा काबू में रखिये,
दिल-ए-नादान कही इस पे शहीद ना हो जाये..!!


Apani muskurahat ko jara kaboo mein rakhiye, dil-e-naadan kahi is pe shaheed na ho jaaye.


Chor nagar me
Chor nagar me Mohabbat Shayari

चोर-नगर में क़ातिल सारे सीना ताने फिरते हैं हम ऐसे सादा-लौहों पर आए हैं इल्ज़ाम बहुत..!


Chor-nagar mein qaatil sare seena tane phirate hain ham aise sada-lauhon par aae hain ilzam bahut.


बस अच्छा लगता है तुम्हें देखना तुम्हें सोचना और तुमसे ही बातें करते रहना!!


Bas achchha lagata hai tumhen dekhana tumhen sochana aur tumase hee baaten karate rahana.


हम पर तुम्हारी चाह का इल्ज़ाम ही तो है,
दुश्नाम तो नहीं है ये इकराम ही तो है..!


Ham par tumhari chaah ka ilzam hee to hai dushnam to nahin hai ye ikaram hee to hai..


Leave a Comment

Your email address will not be published.