Beautiful Tareef Shayari | Praise Of Shayari ¦ तारीफ शायरी..

You can get Best collection of Tareef Shayari ~Shayari On Beauty, Praise Shayari, Shayari On Beauty, khubsurti ki tareef shayari in hindi. तारीफ शायरी Tareef Shayari. Tareef Shayari in Two Lines, तारीफ शायरी 2 लाइन…


तेरी तारीफ में लिख पाना आसन नहीं है,
तेरी सुन्दरता के लिए और अल्फाज नहीं है!


Teri Tarif Me Likh Pana Aasan Nahi Hai,
Teri Sundrta Ke Liye Aur Alfaj Nahi Hai..


Chand se bhi

चाँद से भी खुबसूरत हो तुम,
मेरी जिंदगी की जरुरत हो तुम..!


Chand Se Bhi Khubsurat Ho Tum, meri Jindagi Ki Jarurat Ho Tum..


तेरे हुस्न के चर्चे करके मै थकता नहीं,
ये वो नशा है जो अब रोज करता हूँ.!


Tere Husn Ke Charche Karke
Mai Thakta Nahi,
Ye Vo Nasha Hai Jo Ab Roj Krta Hun..


मुझको मालूम नहीं हुस़्न की तारीफ,
मेरी नज़रों में हसीन ‘वो’ है, जो तुम जैसा हो


Mujhko Malum Nahi.Husn Ki Tarif, meri Nazro Me Haseen Wo Hai Jo Tum Jaisa Ho..


तेरे हुस्न की तपिश कहीं जला ना दे, मुझे.!
तू कर महोब्बत मुझसे ज़रा आहिस्ता आहिस्ता..!!

Tere husn ki
Tere husn ki

Tere Husn Ki Tapish Kahin Jala Na De Mujhe,
Tu Kar Mohabbat Mujhse Zara.. Ahista Ahista..


जो एक बार डूबे तो कोई उबर नहीं पाता,
इतना गहरा उनके हुस्न का समंदर है।


Jo Ek Bar Doobe To Koi Ubhar Nahi Sakta,
Itna Gehra Unke Husn Ka Samandar Hai..


Sachhi mohabbat
Sachhi mohabbat Tareef shayari

सच्ची मुहब्बत तो एक तरफ़ से ही होती है, जो दौनों तरफ़ से हो, उसे किस्मत कहते हैं…!!


Sachchi muhabbat to ek taraf se hi hothi hai, jo daunon taraf se ho, use kismat kahate hain…!!


उसने जब मेरी तरफ प्यार से देखा होगा , मेरे बारे में बड़े ग़ौर से सोचा होगा ..


Usane jab meri taraph pyar se dekha hoga mere baare mein bade gaur se socha hoga.


गलतिया भी होगी और आपको गलत भी, समझा जाएगा ये जिंदगी है मेरे दोस्त सम्हल कर रहना यहाँ अपनो के बीच तुमको तारीफे कर कर के हर लम्हे परखा जाएगा…


Galatiya bhi hogk aur apako galat bhi, samajha jaega ye jindagi hai mere dost samhal kar rahana yahan apano ke beech tumako taareephe kar kar ke har lamhe parakha jaega…


क्या लिखूँ आपकी तारीफ में अल्फाज ही, खत्म हो गये आपकी मासूमियत देखकर !


Kya likhoon apaki tareeph mein, alphaj hi khatm ho gaye apaki masoomiyat dekhakar..


यू तारीफ ना किया करो मेरी शायरी की, दिल टूट जाता है मेरा जब तुम मेरे दर्द पर वाह-वाह करते हो !!


Yoo tareeph na kiya karo meri shayari ki dil toot jata hai mera jab tum mere dard par vaah-vaah karate ho..


Tere hoto ne
Hoto ki Tareef Shayari

तेरे होठों ने मुझे आज छू लिया ऐसे,
की अब तेरी तरफ किये बिना ये थम ते ही नहीं.!


Tere Hoto Ne Mujhe Aaj Chu Liya Aise, Ki Ab Teri Taraf kiye bina
Ye Tham Te Hi Nahi..


शोखी से ठाहेरती नहीं कातिल की नजर आज, ये बर्क-ए-बाला देखिये गिरती है किधर आज।


Shokhi se thaherathi nahin kaatil ki najar aaj, ye bark-e-baala dekhiye girathi hai kidhar aaj..


मै तारीफ में मरता नहीं,
अपनी काबिलियत पर दम रहता हूँ.!


Mai Tarif Me Marta Nahi,
Apni Kabiliyat Par Dum Rahta Hun..


दिल में शमा गयी हैं कयामत की शोखियाँ,
दो चार दिन रहा था किसी की निगाह में।


Dil mein shama gayi hain kayamat ki shokhiyan, do chaar din raha tha kisi kee nigah mein.


तेरे हुस्न को परदे कि जरुरत क्या है,
कौन रहता है होश में तुझे देखने के बाद।


Tere husn ko parade ki jarurat kya hai, kaun rahata hai hosh mein tujhe dekhane ke baad..


Tareef Shayari On Face


khubsurathi bikher
Tareef Shayari on face

खूबसूरती बिखेर देने वालो को,
क्या जरुरत है सवरने की,
वो तो खुद कयामत है
उसे क्या जरुरत है तारीफ की.


Khubsurati Bikher Dene Vaalo Ko, Kya Jarurt Hai Savrne Ki,
Vo To Khud Kayamat Hai
Use Kya Jarurt Hai Taarif Ki..


दिल तो उनके सीने में भी मचलता होगा,
हुस्न भी सौ सौ रंग बदलता होगा,
उठती होंगी जब भी निगाहें उनकी,
खुदा भी गिर गिर के संभलता होगा।


Dil To Unke Sine Me Bhi Machalta Hoga,
Husn Bhi Sau Sau Rang Badalta Hoga,
Uthti Hongi Jab Bhi Nigahein Unki,
Khuda Bhi Gir Gir Ke Sambhalta Hoga..


बड़ी खुबसूरत हो तुम,
देख कर फ़िदा हो उठे
ऐसी सूरत हो तुम..


Badi Khubsurat Ho,
Tum dekh Kar Phida Ho,
Uthe aisi Surat Ho Tum…


उसे अपनी खूबसूरती पर बड़ा नाज था,
अपनी ही तारीफ सुनने के लिए बेक़रार था,
मोड़ कुछ ऐसा बदल गया सब कुछ ख़त्म कर गया.


Use Apni Khubsurati Par Bada Naaj Tha,
Apni Hi Tarif Sunne Ke Liye Bekarar Tha,
Mod Kuch Aisa Badal Gaya
Sab Kuch Khatm Kar Gay..


हटा कर ज़ुल्फ़ चेहरे से,
न छत पर शाम को जाना,
कहीं कोई ईद न कर ले,
अभी रमजान बाकी हैं।


Hata Kar Zulf Chehre Se,
Na Chhat Par Shaam Ko Jana,
Kahin Koyi Eid Na Kar Le,
Abhi Ramzaan Baki Hai..


तेरी खूबसूरती में कल तक मै,
कितनी कहानियाँ लिखा करता था,
तेरी सुन्दरता देख कर आज मै घबरा गया,
ये तूने अपना हाल ऐसा क्यों बना लिया..!


Teri Khubsurati Me Kal Tak Mai.
Kitani Kahaniya Likha Karta Tha.
Teri Sundarta Dekh Kar Aaj Mai Ghabra Gaya.
Ye Tune Aapna Haal Yesa Bana Liya..


Ankhe naju

आँख नाज़ुक सी कलियाँ बात मिसरी की डालियाँ, होंठ गंगा के साहिल ज़ुल्फ़ जन्नत की गलियां, तेरी खातिर फरिस्ते सर पे इल्ज़ाम लेंगे, हुस्न की बात चली सब तेरा नाम लेंगे।


Aankh Naazuk Si Kaliyan Baat Misri Ki Daliyan, honth Ganga Ke Saahil Zulf Jannat Ki Galiyan.
teri Khatir Farishte Sar Pe ilzaam Lenge, husn Ki Baat Chali To Sab Tera Naam Lenge..


इतरा कर अपनी खूबसूरती पर
तुम कुछ यूँ नखरे दिखाती हो,
समां की तरह जलती हो
और दुसरे को भी जलाती हो.!


Itara Kar Apni Khubsurati Par
Tum Kuch Yun Nakhre Dikhati Ho, Sama Ki Tarah Jalti Ho
Aur Dusre Ko Bhi Jalati Ho.!


ऐसा चेहरा है तेरा जैसा रोशन सवेरा,
जिस जगह तू नहीं है उस जगह है अँधेरा,
कैसे फिर चैन तुझ बिन तेरे बदनाम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो सब तेरा नाम लेंगे।


Aisa Chehra Hai Tera Jaisa Roshan Sawera,
jis Jagah Tu Nahin Hai Us Jagah Hai Andhera.
kaise Phir Chain Tujh Bin Tere Badnaam Lenge,
husn Ki Baat Chali To Sab Tera Naam Lenge..


तेरी तारीफ करने का मुझे कोई शौक नहीं,
लोगो ने तो फायदा उठाने के लिए
तुझे अपना बनाया है.!


Teri Tarif Karne Ka Mujhe Koi Souk Nahi,
Logo Ne Fayada Uthane Ke Liye
Tujhe Apna Banaya Hai..


मै तुम्हारी तारीफ के किस्से रोज लिखता हूँ,
तेरी खूबसूरती बताने के लिए
एक किताब लिखता हूँ.!!


Mai Tumhari Tarif Ke Kisse Roj Likhta Hun,
Teri Khubsurati Batane Ke Liye.
Ek Kitab Likhta Hun..


Tarif apni me

तारीफ अपनी मै,
खुद किया करता हूँ,
बुराई करने के लिए तो पूरा जमाना है..!


Tarif Apni Mai Khud Kiya Karta Hun,
Burai Karne Ke Liye To Pura Jamana Hai…


सांसो ने आकर हमे,
चुपके से एक बात कह दी,
वो भी तुम्हे पसंद करते है हमारी तरह.!


Sanso Ne Aakar Hume
Chupke Se Ek Baat Kah Di,
Vo Bhi Tumhe Pasand Karte Hai
Humari Tarh..


Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *